बुधवार, 3 अप्रैल 2019

योगी सरकार मिल मालिकों की सरकार



अलीगढ़।योगी सरकार में श्रम कानूनों का पालन नहीं कराया जा रहा है इसके विपरीत मिल मालिकों की पक्ष धारी कि जा रही है
मिल मालिकों ने 14 7 मजदूरों को श्रम कानूनों को लागू करने की मांग करते ही बगैर नोटिस दिए निकाला गया है।
 योगी मोदी सरकार में मिल मजदूरों की दशा अत्यधिक खराब है
स्थानीय वेब शराब व बीयर फैक्ट्री के निष्काषित मजदूरों का अनिश्चित कालीन धरना आज आठवें दिन भी जारी रहा।
जिला प्रशासन के उदासीन व्यवहार के चलते आंदोलन रत मजदूरों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है,इनका मानना है कि जिला प्रशासन फैक्ट्री मालिकों के हाथ में खिलौना बना हुआ है और फैक्ट्री प्रबन्धन के विरुद्ध कार्यवाही करने की उसमें हिम्मत नहीं है, जबकि मजदूरों की मांगें संवैधानिक एवं न्यायोचित हैं।मजदूरों का कहना है कि यदि शीघ्र ही फैक्ट्री प्रबन्धन पर दबाब बनाकर हमारी माँगे पूरी न करायी गई तो हम आंदोलन के अन्य विकल्पो पर विचार करने पर मजबूर होंगे,जिसकी पूरी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।
इस अवसर पर आल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सुहेब शेरवानी, सचिव रामबाबू गुप्ता, रामवीर सिंह, जगदीश प्रसाद , धर्मवीर उपस्थित रहे।

सोमवार, 18 मार्च 2019

कामरेड विश्वनाथ शास्त्री को लाल सलाम


 भाकपा के पूर्व राज्य सचिव एवं पूर्व सांसद का. विश्वनाथ शास्त्री का आज सुबह लगभग 6 बजे लखनऊ के सहारा अस्पताल में निधन होगया। उन्हें 1 मार्च को पैरेलिटिक अटेक पड़ा था। तभी से वे अस्पताल में भर्ती थे। उनके पार्थिव शरीर को उनके गृह जनपद गाजीपुर लेजाया जारहा है जहां उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।
बाइक से प्रचार करते थे विश्वनाथ शास्त्री
दानिश

गाजीपुर : वर्ष 1991 में सांसद बने विश्वनाथ शास्त्री को वह दिन अभी भी नहीं भूलता। वह बाइक से प्रचार करने निकलते। लोग मिलते और खुद उनके प्रचार में जुट जाते। उन्होंने वह चुनाव मतदताओं की मदद से जीता।

दो दशक बीतने के बाद भी पूर्व सांसद विश्वनाथ शास्त्री को उनके चुनाव की याद ताजा है। उन्होंने अपना ठिकाना स्टेशन रोड स्थित कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय को बना रखा था। सुबह चार बजे बिस्तर छोड़ते। मार्निग वाक करते हुए नगर के आसपास के गांवों में पहुंच जाते। लोगों के साथ बैठते। बातचीत करते और आठ बजे तक लौट कर कार्यालय आते। वहां मौजूद कार्यकर्ताओं से बातचीत कर क्षेत्र में अकेले ही निकल जाते थे। वह जिधर से गुजरते रास्तों में लोग रोक-रोक कर उनका स्वागत करते जिस गांव में वह पहुंचते वहां पर लोगों की भीड़ जुटने लगती। धीरे-धीरे हुजूम सा लग जाता। यही नहीं चुनाव नजदीक आया तो कार्यकर्ताओं ने अपने खर्च पर जीप मुहैया करा दी। उसी में लाउडस्पीकर बांध दिया। उसी से प्रचार करते। चुनाव का परिणाम घोषित हुआ तो नतीजा उनके पक्ष में रहा। पूर्व सांसद विश्वनाथ शास्त्री कहते हैं कि समय बदलने के साथ चुनाव के प्रचार के तौर-तरीकों में भी काफी बदलाव आ गया है। उन्होंने अपना चुनाव मात्र कुछ रुपयों में ही लड़ा जो अब संभव नहीं है।
दैनिक जागरण से
कामरेड विश्वनाथ शास्त्री अमर रहे 
कामरेड विश्वनाथ शास्त्री को लाल सलाम 

रविवार, 17 मार्च 2019

आत्म-हनन के पथ पर मोदी !


-अरुण माहेश्वरी 

किसी भी सामाजिक-राजनीतिक परिघटनाके पीछे कोई एक कारण नहीं होता है  यहजीवन के अनेक कारणों के समुच्चय कापरिणाम होता है  इसे कहते है - कारणों कानानात्व  (Multiplicity of causality)

2014 में मोदी के उत्थान के पीछे एककारण नहीं था  वे मनमोहन सिंह केअतिरिक्त मौन व्यक्तित्व की तुलना मेंअतिरिक्त वाचाल थे  यूपीए-2 के काल मेंआम लोगों के बीच भ्रष्टाचार को लेकर कईकारणों से एक अलग प्रकार की बेचैनी पैदाहो गई थी  अन्ना हज़ारेअरविंद केजरीवालकी तब दिल्ली में धूम मची थी  लेकिनलाभ मिला मोदी को  

इसके अतिरिक्तगुजरात के जनसंहारों केबाद भी वहाँ सत्ता पर बने रहने के कारणलोगों को लगा कि यह आदमी कठिन समयमें भी अर्थ-व्यवस्था की बागडोर थाम सकताहै  गुजरात में पूँजीपतियों के सामूहिकप्रदर्शनों ने इसमें एक बड़ी भूमिका अदा की 

इनके अलावा जादू की छड़ी से देश काकायाकल्प कर देने का मोदी का ताबड़तोड़प्रचार भी एक नये स्तर का था  2014 मेंमोदी ने शासक कांग्रेस दल से दुगुना सेज़्यादा रुपये बहाये थे  

मोदी की भारी जीत के बाद कईउदारवादियों ने भी जनतांत्रिक नैतिकता केनाम पर इस उम्मीद में मोदी को मौक़ा देनेकी दलीलें शुरू कर दी थी कि सरकारचलाने की जिम्मेदारी इस ख़तरनाक प्राणीको सभ्यता सिखा देगी। 

और देखते-देखते मोदी केंद्र के अलावा अन्यराज्यों में भी छा गये  वे भारतीय जनतंत्रकी राजनीति की एक ख़ास परिघटना बनगये  

लेकिन सच कहा जाए तो यह कहानीबमुश्किल दो साल चलीऔर इसी बीच यहसाफ़ देने लगा था कि हर चीज़ की अपनीख़ास तात्विकता होती है  बबूल का बीजबदले हुए मौसम मेंकितने ही आनुवंशिकबदलावों से क्यों  गुज़रेशुद्ध रसीले मीठेआमों का पेड़ पैदा नहीं कर सकता है  

मोदी के आने के साथ ही बुद्धिजीवियों कीहत्याउन्हें डराने-धमकाने और प्रैस को पूरीतरह से पालतू कुत्ते में तब्दील करने काडरावना संगठित सिलसिला तो शुरू हो हीगया था  बीफ़ और गोरक्षा के नाम परमुसलमानों को डराने का और लव जिहाद केनाम पर मुसलमानों से संपर्क रखने वालेतमाम लोगों को धमकाने का काम भीपुरज़ोर चलने लगा  

और तभीजनता पर मोदी के मूलभूत संघीफ़ासिस्ट विचारों कागुजरात के जनसंहारवाले हत्यारे अभियान का प्रभाव सबसेप्रकट रूप में पहली बार 8 नवंबर 2016 केदिन सामने आया जब मोदी ने तालियाँबजाते हुए नोटबंदी की घोषणा करके देशभर में पूरी जनता को बदहवास होकर बैंकोंके सामने लाइनों में खड़ा होनेअसहाय दशामें रोने-कलपने के लिये उतार दिया  पूरे दोमहीने तक मोदी टेलिविज़न के पर्दे पर रोते-बिलखते लोगोंस्त्रियोंवृद्धजनोंकिसानों,मज़दूरों के दुखों पर पूरी अश्लीलता के साथनाचते रहे  

वह एक अजीब सा समय था  हर रोताहुआ आदमी अन्यों के रूदन को देख करखुद को दिलासा दे रहा था  वह अंदर हीअंदर शायद इस कल्पना से ख़ुश भी था किउसकी तरह ही सारे काला धन वाले भीअपने भाग्य पर रो रहे होंगे ! विपत्ति के कालके एक समताकारी प्रभाव की ख़ुशफ़हमी मेंलोग उस महा ठगी के झटके को झेल गये  

और कहना  होगाउसी जन-उद्वेलन कीपरिस्थिति में मोदी ने उत्तर प्रदेश में भी भारीजीत हासिल कर लीं  

मोदी को खुद को ईश्वर मान लेने के लियेइतना सब काफ़ी था  मार्च 2017 में यूपीके चुनाव हुए  मोदी की अर्थनीति कीअपनी कोई विशेष समझ नहीं थीलेकिनउसे इस क्षेत्र में अपनी ईश्वरीय शक्ति कापरिचय देना था ! उसने अर्थशास्त्री मनमोहनसिंह की अर्थनीति की किताब से एक पन्नाफाड़ लियाजीएसटी का पन्ना और उसेअपनी अर्थनीति की एक महान पताका कीतरह लहराते हुए जुलाई 2017 की आधीरात में संसद के संयुक्त सत्र में एक नक़लकिया हुआ पन्ना बिना उसे समझेग़लत-सलत ढंग से पढ़ दिया  मोदी-जेटली केहाथ में यूपीए का जीएसटी का अध्याय एकपूरी तरह से बेढंगे दस्तावेज का रूप ले करसामने आया  कहा जा सकता हैजीएसटीकी स्कीम का विकृतिकरण ही उसमें मोदीका मौलिक अवदान था !

लोग अभी तक नोटबंदी के दुखों से उबरे हीनहीं थे कि मोदी के इस नये कारनामे नेउनके ज़ख़्मों पर बुरी तरह से नमक रगड़नेका काम किया  कल-कारख़ानेख़ास तौरपर अर्थ-व्यवस्था का अनौपचारिक क्षेत्र पूरीतरह से तबाह हो गया  एक झटके मेंबेरोज़गारी की गति राकेट की गति से बढ़नेलगी  मोदी सत्ता के मद में इतने पागल होगये कि भूखो मर रहे किसानों को सरे आमधमकाने लगे  फ़सल का वाजिब दाममाँगने पर मंदसौर में उन पर गोलियाँ बरसाई 

इसके साथ ही खुद मोदी अपने पूँजीपतिमित्रों के साथ विदेश यात्राओं की पुरानीअय्याशी में डूब गये  नोटबंदी के ठीक पहले(सितंबर 2016 मेंवे भारत की प्रमुखलड़ाकू विमानों की सरकारी उत्पादक कंपनीहिंदुस्तान एरोनेटिक्स लिमिटेड’ (एचएएल)को धत्ता बता कर रफाल लड़ाकू विमानों केदुनिया के सबसे बड़े रक्षा सौदे में अपनेदिवालिया हो रहे मित्र अनिल अंबानी कोतीस हज़ार करोड़ का लाभ पहुँचा चुके थे  

हथियारों के सौदागरों की सोहबत में मोदीइतने बेलगाम हो गये कि वे खुले आम नीरवमोदीमेहुल चौकसी की तरह के अपने मित्रोंको बैंकों का हज़ारों करोड़ लूट कर विदेशोंमें जा बसने का प्रबंध करने लगे  

इधरदेशवासियों की आँखों में स्वच्छताअभियानशौचालय आदि के कोरे प्रचार सेधूल झोंकते हुए मोदी ने समझ लिया किअब भारत की दुखी जनता उनके चंगुल सेकभी मुक्त नहीं होगी ! झूठे प्रचार से जनताको जीवन के दुख-दर्द को भुला देने काअचूक सम्मोहन मंत्र उनके हाथ लग गया है

लेकिनउनका और सारी दुनिया के ऐसेतानाशाहों का दुर्भाग्य है कि जीवन का सचपूरी तरह से उनकी ही इच्छा से गठित नहींहोता है   मोदी के मामले में भी ऐसा हीहुआ  

नोटबंदी और जीएसटी के दुखों को तो हरेकआदमी महसूस कर ही रहा थाइसी बीचएक-एक कर मोदी और उनके लोगों केतमाम भ्रष्टाचार के क़िस्से भी खुल करसामने आने लगे  ख़ास तौर पर रफाल केमामले में तो ऐसे तमाम प्रमाण औरदस्तावेज सामने आएं कि दिन रात बक बककरने वाले मोदी को ही साँप सूंघ गया  

राहुल गांधी ने संसद के पटल पर ही उनकीसर्वशक्तिमानता की छवि के परखचे उड़ातेहुए यहाँ तक कहा कि इस शख़्स में हम सेआँख मिलाने तक की हिम्मत नहीं है  यहकभी इधर देखता हैकभी उधर। कभी ऊपरतो कभी नीचे  लेकिन आँख से आँख नहींमिला पाता है  

और कहना  होगायहीं से पैदा हुआआजके भारत के घर-घर में गूँजता हुआ नारा -चौकीदार चोर है  राहुल ने संसद में ही यहभी कहा कि यहां उपस्थित मोदी और शाह,दो ऐसे व्यक्ति है जो अन्य सबसे अलग हैऔर ये दोनों यह जानते हैं कि उनके लियेचुनाव में हारना कितना भारी पड़ सकता है एक बार सत्ता से हटने के बाद  जानेकितनी फौजदारी कार्रवाइयों का उन्हेंसामना करना पड़ेगा ! 

इसके साथ ही मोदी-शाह के बेजा हस्तक्षेपके कारण सुप्रीम कोर्टआरबीआई,सीबीआई आदि संस्थाओं में अजीबोगरीबसंकट के विस्फोट होने लगे  देश का पूराप्रशासन सभी स्तरों पर पूरी तरह से ठप होगया  सारी एजेंसियों के पास मानो मोदी केबचाव के अलावा दूसरा कोई काम नहीं रहगया  

मोदी सरकार के बदइरादोंउसकीकूटनीतिक नालायकी और झूठे जंगी तेवर नेकश्मीर समस्या को भी एक नये विस्फोटककगार पर पहुँचा दिया  कश्मीर में उनकीसाझा सरकार ऐसे चली गई जैसे उसके रहनेका कभी कोई औचित्य ही नहीमोदी केस्वेच्छाचारसत्ता का केंद्रीकरणभ्रष्टाचार,आर्थिक नीति के मामले में चरम अज्ञता,तमाम महत्वपूर्ण विषयों पर उसकी नीति-विहीनता और झूठी जंगबाज़ी की नीतियों नेवस्तुतआज पूरे देश को अचल बना करछोड़ दिया है  जैसे मोदी के उत्थान के पीछेएक समय में अनेक प्रकार के कारणों काएक समुच्चय पैदा हो गया थादेखते हीदेखते अब उनके तेज़ी से चरम पतन कीपरिघटना के नाना कारणों का समुच्चयतैयार हो चुका है  

आज मोदी के प्रति स्वीकार्यता का किसी भीविवेकवान आदमी के पास कोई कारण नहींबचा है  खुद मोदी भी अपने शासन से जुड़ेकिसी विषय को 2019 के चुनाव का विषयबनने नहीं देना चाहते हैं  इसीलिये वे भारतनहींपाकिस्तान के विषय पर चुनाव लड़नाचाहते हैं ; सर्जिकल स्ट्राइक के झूठे शौर्य कीकिस्सागोई से काम चलाना चाहते हैं  

बालाकोट प्रकरण में भारत को अपमानितकराने के बाद भी गोदी मीडिया की मदद सेमोदी ने थोड़े से दिनों तक ‘राष्ट्रवाद’ काउन्माद पैदा करने की कोशिश की थी लेकिन इस उन्माद का ज्वर जितनी तेज़ी सेचढ़ाउतनी ही तेज़ी से उतर भी गया  इसप्रकारआज ‘युद्धबाजी’ के अपने तरकश केअंतिम तीर को भी चला कर मोदी खुद कोपूरी तरह से निहत्था कर चुके हैं  

सरला माहेश्वरी की एक कविता है ‘अंतिमतीर’ :

क्या तरकश का अंतिम तीर /ब्रह्मास्त्र है कि/शत्रु मरेगा ही ! 
अंतिम तीर अंतिम होता है /बस खुद कोनिहत्था करता है 
एक हल्की सी आवाज से / जब सपनाटूटता है / पसरा पड़ा आदमी / गिद्धों सेबचने / पसीना-पसीना / हो रहा होता है  
अंतिम तीर / अंतिम क्षण का संकेत होता है

अब अवसादग्रस्त मोदी लगता है जैसेआत्म-हत्या का रुझान बढ़ने लगा है  एकdeath drive देश की गली-गली में गूँजरहे ‘चौकीदार चोर है’ के नारे से पागल होचुके मोदी अब सड़कों पर उलंग होकर यहकहते हुए घूमने लगे है - “मैं ही हूँचौकीदार”! 


अरुण माहेश्वरी
अपना अन्तिम तीर छोड़ कर निहत्था होचुके मोदी ने ‘चोर चौकीदार’ पर जनता केन्याय की नियति को मान लिया है ! यह हैमोदी के अंत की परिघटना का वह यथार्थजो आने वाले सत्तर दिनों के बाद कीपरिस्थितियों को अंतिम आकार देगा