गुरुवार, 21 मई 2009


हर ख्वाब की ताबीर बहुत मुश्किल है
तामीर - -गजल मीर बहुत मुश्किल है
रूखे- रौशन की वो रौनक बस सल्ले अला -
काम आए कोई तदवीर बहुत मुश्किल है
ख़त जलाकर मेरी यादों को मिटाने वाले -
बने दिल में भी तस्वीर बहुत मुश्किल है
हम खयालो में हो मुमकिन ही नही-
प्यार की तोड़नी जंजीर बहुत मुश्किल है
मैं मुसब्बिर हूँ तेरी शक्ल बना लेता हूँ-
गर्मी- - साँस की तासीर बहुत मुश्किल है
मैं बहुत बार तेरे दर पे पहुँचता लेकिन -
बिन बुलाये मिले तौकीर बहुत मुश्किल है

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल '' राही ''

1 टिप्पणी:

AlbelaKhatri.com ने कहा…

jiyo jiyo .........vah kya baat hai!!!!!!!
BAHUT ACHHI GHAZAL
badhai