शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

तोरे पाकिस्तान का का हाल है ?


"काहे भइया , तोरे पकिस्तान का का हाल है ?"
"वह तो बन रहा है ।"
" काहे न बनिहे , भैय्या , तूँ कहि रइयो तो जरूर बनिये। बाकी ई गंगौली पकिस्तान में जा रहे कि हिंदुस्तान में रइहे ?"
"ई तो हिन्दुस्तान में रहेगी । पकिस्तान में तो सूबा सरहद , पंजाब , सिंध और बंगाल होगा ; और कोशिश कर रहे हम लोग की मुस्लिम यूनिवर्सिटी भी पकिस्तान में हो जाए ।"

" गंगौली के वास्ते ना न करियो कोशिश ?"
"गंगौली का क्या सवाल है ?"
"सवाल न है त हम्में पकिस्तान बनने या न बनने से का ?"
" एक इस्लामी हुकूमत बन जाएगी ।"
" कहीं इस्लामू है कि हुकुमतै बन जहिए । ऐ भाई, बाप-दादा की कबर हियाँ है, चौक इमामबाडा हियाँ है , खेती-बाडी हियाँ है । हम कौनो बुरबक है की तोरे पकिस्तान जिंदाबाद में फंस जाएँ ।"

" अंग्रेजो के जाने के बाद यहाँ हिन्दुओं का राज होगा ।"
" हाँ-हाँ , त हुए बा । तू त ऐसा हिंदू कही रहियो जैसे हिन्दुवा सब भुआऊँ है कि काट लीहयन । अरे, ठाकुर कुंवरपाल सिंह त हिन्दुवे रहे। झिंगुरिया हिंदू है। ऐ भाई, ओ परसरमुआ हिंदुए न है की जब शहर में सुन्नी लोग हरमजदगी कीहन कि हम हजरत अली का ताबूत न उठे देंगे , कहो को कि ऊ में शिआ लोग तबर्रा पढ़त है त परसरमुआ उधम मचा दीहन कि ई ताबूत उट्ठी और ऊ ताबूत उठा । तोरे जिन्ना साहब हमारा ताबूत उठवाये न आए !"

डॉक्टर राही मासूम रजा के 'आधा गाँव' से

3 टिप्‍पणियां:

Pankaj Mishra ने कहा…

रचना पढ़वाने के लिए आभार

अनूप शुक्ल ने कहा…

उपन्यास फ़िर से पढ़ने का मन करने लगा। :)

Chhaya ने कहा…

Dr. Rahi Masoom Raza was a genious.. i am going to find the copy of this novel and read it again..

PS: thank u for dropping by at my blog. plz do keep in touch