शनिवार, 5 जून 2010

नये मनुष्य, नये समाज के निर्माण की कार्यशाला: क्यूबा-4


क्यूबा का इंकलाबः एक अलग मामला

क्यूबा की क्रान्ति न रूस जैसी थी न चीन जैसी। वहाँ क्रान्तिकारी कम्युनिस्ट पार्टियाँ पहले से क्रान्ति के लिए प्रयासरत थीं और उन्होंने निर्णायक क्षणों में विवेक सम्मत निर्णय लेकर इतिहास गढ़ा। उनसे अलग, क्यूबा में जो क्रान्ति हुई, उसे क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी का भी समर्थन या अनुमोदन हासिल नहीं था। उस वक्त क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी फिदेल के गुरिल्ला युद्ध का समर्थन नहीं करती थी बल्कि बटिस्टा सरकार के ऊपर दबाव डालकर ही कुछ हक अधिकार हासिल करने में यकीन करती थी। लेकिन वक्त के साथ न केवल फिदेल ने क्यूबाई इंकलाब को सिर्फ एक देश के इंकलाब से बाहर निकालकर उसे एक अंतर्राष्ट्रीय कम्युनिस्ट आंदोलन की अहम तारीख बनाया बल्कि अंतर्राष्ट्रीय कम्युनिस्ट बिरादरी ने भी क्यूबा के इंकलाब को साम्राज्यवाद से बचाये रखने में हर मुमकिन भूमिका निभाई।
चे ग्वेवारा का प्रसिद्ध लेख ’क्यूबाः एक्सेप्शनल केस?’ क्यूबा की क्रान्ति की अन्य खासियतों पर और समाजवाद की प्रक्रियाओं पर विलक्षण रोशनी डालता है।
करिष्मा दर करिश्मा जनता की ताकत से
1961 की 1 जनवरी को 1 लाख हाई स्कूल पास लोगों के साथ पूरे मुल्क को साक्षर बनाने का अभियान शुरू किया गया और ठीक एक साल पूरा होने के 8 दिन पहले ही क्यूबा को पूर्ण साक्षर करने का करिश्मा कर दिखाया। दिसंबर 22, 1961 को क्यूबा निरक्षरता रहित क्षेत्र घोषित कर दिया गया। ऐसे करिश्मे क्यूबा ने अनेक क्षेत्रों में दिखाए और अभी भी जारी हैं। इंकलाब के तत्काल बाद जमीन पर से विदेशी कब्जे खत्म किए गए और बड़े किसानों व कंपनियों से जमीनें लेकर छोटे किसानों व खेतिहर मजदूरों को बाँटी गईं। इंकलाब के बाद के करीब बीस-पच्चीस वर्षों तक क्यूबा ने तरक्की की अनेक छलाँगें भरीं। बेशक सोवियत संघ व अन्य समाजवादी देशों के साथ सामरिक-व्यापारिक संबंधों की इसमें अहम भूमिका रही। गन्ने की एक फसल वाली खेती से शक्कर बनाकर क्यूबा ने सोवियत संघ से शक्कर के बदले पेट्रोल और अन्य आवश्यक वस्तुएँ हासिल कीं। उद्योगों का ही नहीं खेती का भी राष्ट्रीयकरण करके खेतों में काम करने वाले मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा, छुट्टियाँ, मुफ्त शिक्षा, इलाज की सुविधाएँ और बच्चों के लिए झूलाघर खोले गए। क्रान्ति के महज 7 वर्षों के भीतर क्यूबा की 80 फीसदी कृषि भूमि पर सरकार का स्वामित्व था। निजी स्वामित्व वाले जो छोटे किसान थे, उनके भी सरकार ने जगह-जगह कोआॅपरेटिव बनाए और उन्हें प्रोत्साहित किया। सबके लिए भोजन, रोजगार, शिक्षा और सबके लिए मुफ्त इलाज की सुविधा ने क्यूबा को मानव विकास के किसी भी पैमाने से अनेक विकसित देशों से आगे लाकर खड़ा कर दिया था।

मुश्किल दौर का मुकाबला क्रान्ति के औजारों से

सोवियत संघ के विघटन से निश्चित ही क्यूबा की अर्थव्यवस्था पर बहुत प्रतिकूल असर पड़ा। भीषण मंदी ने क्यूबा को अपनी चपेट में ले लिया। सोवियत संघ केवल क्यूबा की कृषि उपज का खरीददार ही नहीं था बल्कि क्यूबा की ईंधन और रासायनिक खाद की जरूरतों का भी बड़ा हिस्सा वहीं से ही पूरा होता था। सोवियत संघ के ढहने से क्यूबा में रासायनिक खाद और कीटनाशकों की उपलब्धता 80 फीसदी तक गिर गई और उत्पादन में 50 फीसदी से ज्यादा गिरावट आई। क्यूबा के प्रति व्यक्ति प्रोटीन और कैलोरी खपत में 30 फीसदी कमी दर्ज की गई। लेकिन क्यूबा इन सभी समस्याओं से बगैर किसी बाहरी मदद के जिस तेजी से फिर सँभला, वह क्यूबाई करिश्मों की गिनती को ही बढ़ाता है। अपने दक्ष व प्रतिबद्ध वैज्ञानिकों और लोगों के प्रति ईमानदार, दृढ़ राजनैतिक इच्छाशक्ति ने 1995 के मध्य तक अपनी कृषि को पूरी तरह बदल कर नये हालातों के अनुकूल ढाल लिया। रासायनिक खाद के बदले जैविक खाद से खेती की जाने लगी। एक फसल के बदले विविधतापूर्ण फसल चक्र अपनाए गए। आज क्यूबा सारी दुनिया में जैविक खेती और जमीन का सही तरह से इस्तेमाल करने वाले देशों में सबसे आगे है।
यही स्थिति ऊर्जा के क्षेत्र में भी हुई। सोवियत संघ से पेट्रोलियम की आपूर्ति बंद हो जाने के बाद क्यूबा के वैज्ञानिकों व इंजीनीयरों ने बड़े पैमाने पर सौर ऊर्जा और पनबिजली के संयंत्रों पर काम किया। कम बिजली खपत वाले रेफ्रीजरेटर, हीटर, बल्ब इत्यादि बनाए गए और आज क्यूबा वैकल्पिक व प्रकृति हितैषी ऊर्जा उत्पादन में भी दुनिया की अग्रिम पंक्ति में है।
पश्चिमी यूरोप में प्रत्येक 330 लोगों की देखभाल के लिए एक डाॅक्टर है; अमेरिका में प्रत्येक 417 लोगों की देखभाल के लिए एक डाक्टर है, जबकि क्यूबा में प्रत्येक 155 लोगों की देखभाल के लिए एक डाॅक्टर है। क्यूबा जैसा छोटा सा देश 70 हजार से ज्यादा डाक्टर्स को प्रशिक्षित कर रहा है और उन्हें दुनिया के हर हिस्से में मानवता की मदद के लिए भेज रहा है जबकि उससे कई गुना बड़ा अमेरिका करीब 64 से 68 हजार डाक्टरों का ही प्रशिक्षण कर पा रहा है।

-विनीत तिवारी
मोबाइल : 09893192740

(क्रमश:)

3 टिप्‍पणियां:

अरुणेश मिश्र ने कहा…

प्रशंसनीय ।

आचार्य जी ने कहा…

आईये जानें .... मन क्या है!

आचार्य जी

'उदय' ने कहा…

...प्रभावशाली पोस्ट!!!