बुधवार, 8 सितंबर 2010

जघन्य अपराध : गुजरात खुलासे का सबक, भाग 1

सोहराबुद्दीन और उनकी पत्नी कौसर बी की हत्या की जो असलियत सामने आई है, उसे जान कर संविधान और उस पर आधारित कानून के राज में आस्था रखने वाले नागरिकों का दिल दहल जाना स्वाभाविक है। पुलिस के आला अफसरों ने अंडरवल्र्ड के गुंडों को मात करने वाले अंदाज में दोनों की हत्या की और उसे मुठभंेड़ प्रचारित कर दिया। यह सब राज्य सरकार के गृह राज्यमंत्री अमित शाह की सरपरस्ती और आदेश पर हुआ। अमित शाह गुजरात के मुख्यमंत्री के चहेते हैं। चार्जशीट में शाह पर हत्या के साथ अपहरण, जबरन वसूली, बंधक बनाने, सबूत मिटाने आदि के आरोप हैं। 26 नवंबर 2005 को गुजरात पुलिस ने सोहराबुद्दीन को मुठभंेड़ में मार गिराने का जो दावा किया था, उसकी हकीकत का रोंगटे खड़ा कर देने वाला ब्यौरा प्रेस में आ चुका है। सोहराबुद्दीन की हत्या के बाद उसकी पत्नी कौसर बी और घटना के चश्मदीद गवाह तुलसी प्रजापति को भी पुलिस ने मार दिया। सामने आए ब्यौरे से यह साफ है कि भाजपा के कथन में अगर फर्जी मुठभेंड़ में मारा गया सोहराबुद्दीन ‘आतंकवादी’ था तो अमित शाह उसके भी उस्ताद हैं। इस सारे खुलासे के बाद कोई नादान ही यह विश्वास करेगा कि पूरे प्रकरण में नरेंद्र मोदी की मिलीभगत नहीं थी।
पुलिस और गृहमंत्री के इस कृत्य पर किसी भी मुख्यमंत्री को चिंतित और शर्मसार होना चाहिए था। लेकिन गुजरात के मुख्यमंत्री को न चिंता है, न शर्म। पार्टी हाईकमान के दबाव में उन्होंने अमित शाह से इस्तीफा तो दिलवाया लेकिन साथ ही उन्हें पूरी तरह पाक साफ और कानून का पालन करने वाला भला नागरिक बताया। उनके मुताबिक सीबीआई ने कांग्रेस के कहने पर अमित शाह के खिलाफ मामला गढ़ा है। जाहिर है, मोदी की नजर में अमित शाह के अलावा वे चैदह पुलिस अधिकारी और अन्य आरोपी भी निर्दोष हैं जिनके खिलाफ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की है।
नरेंद्र मोदी सीबीआई की जाँच के मामले को हिन्दू बनाम मुसलमान और केंद्र बनाम गुजरात राज्य बनाने में लगे हैं। अपने संविधान और भारत विरोधी भाषणबाजी में वे गुजरात की अस्मिता के साथ गंाधी और पटेल जैसे नेताओं को खींच कर लाते हैं। नरेंद्र मोदी के इस रवैये को उनकी पार्टी भाजपा का पूरा समर्थन प्राप्त है। भाजपा हाई कमान ने अमित शाह के इस्तीफे का दबाव इसलिए बनाया ताकि संसद के बाहर और संसद में वह कांग्रेस पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगा सके। हालाँकि सभी जानते हैं कि इस साल जनवरी में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को यह मामला सौंपा था और 31 जुलाई तक चार्जशीट दाखिल करने का आदेश दिया था। भाजपा ने सीबीआई के दुरुपयोग का सवाल तब नहीं उठाया था, क्योंकि उसे विश्वास था कि अमित शाह की संलिप्तता के सारे सबूत नष्ट कर दिए गए हैं और पुलिस वालों में कोई सरकारी मुखबिर नहीं बनेगा। नरेंद्र मोदी पर पार्टी का पूरा विश्वास रहता ही है।
अपनी प्रतिक्रिया में नरेंद्र मोदी ने अफजल गुरु की फाँसी के मामले को उठा कर एक बार फिर साफ कर दिया है कि कांग्रेस अगर मुस्लिम वोटों की राजनीति खेलती है तो वे हिंदू वोटों की राजनीति के खुले खिलाड़ी हैं। दरअसल, मोदी के मुँह खून लग चुका है। 2002 में सांप्रदायिक उन्माद जनित हिंसा का नेतृत्व करने के बावजूद वे दो बार चुनाव जीत चुके हैं। हालाँकि उनकी संलिप्तता का अनेकशः पूरा खुलासा हो चुका है, वे जानते हैं देश में उनके प्रशंसकों की कमी नहीं है। इस आशय के लेख अखबारों और पत्रिकाओं में छपते हैं कि मोदी को ‘नरसंहार पुरुष’ के रूप में देखना बंद कर, ‘विकास पुरुष’ के रूप में देखा जाना चाहिए। खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नजर में नरेंद्र मोदी का बड़ा महत्व है। उनके नव उदारवादी एजेंडे को परवान चढ़ाने में जो भी काम आता है, उनका परम प्रिय होता है। भले ही वह सांप्रदायिक फासीवादी, भ्रष्टाचारी, झूठा और मक्कार हो।
मोदी की तारीफ में लेख लिखने वाले टिप्पणीकार और उनकी प्रशंसा करने वाले प्रधानमंत्री हालाँकि यह नहीं बताते कि आखिर गुजरात में ऐसा कौन-सा विकास हो गया है जिसके एवज में वे संविधान और मानवता तक को लात मारने के लिए तैयार हैं? क्या वहाँ गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी और बीमारी खत्म हो गईं है? जाहिर है, गुजरात में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। न ही आगे हो सकता है। हाँ, विकास की आड़ में साम्प्रदायिक फासीवाद बढ़ता जाता है और एक दिन उस हिन्दू नागरिक समाज को भी उसकी कीमत चुकानी पड़ेगी जो इस बीच नरेंद्र मोदी का पक्षधर बना हुआ है।

-प्रेम सिंह
मो0: 09873276726

3 टिप्‍पणियां:

अजय सिंह ने कहा…

प्रेम जी, अगर सोहराबुद्दीन को नरेन्द्र मोदी ने अगर मरवाया भी है तो इसमें कौन सी चिलपो करने की जरुरत है.| ऐसा करके धरती से एक पापी से खाली कर दिये| सोहराबुद्दीन एक क्रिमिनल और गद्दार था, उसी के खेत के कुए में एके ४७ और गोला बारूद मिले थे| नरेन्द्र मोदी के नहीं | उसे मुठभेड़ में नहीं बीच चौराहे पर जनता के सामने गोली से मारना चाहिए था|
श्रीमान जी आप मोदी के खिलाफ क्यों इतना हल्ला मचा रहे है च च च आप की पगार कम हो जायेगी ना ? आप की चलती तो अफजल गुरु और कसाब को आप फांसी नहीं, आरती करके कश्मीर सहित पुरे भारत को उसके हवाले कर देते | अगर मोदी जैसे दो- चार और हो जाते तो किसी की हिम्मत नहीं होती कि भारत पर आँख उठाकर बाम्बे, सांसद और कश्मीर जैसे अनेक घटनाये होती| मोदी जैसे लोग ही मुस्लिमिकरण जैसी घिनौनी घटनाओ को रोक सकते है वर्ना वह दिन दूर नहीं जब भारत एक इस्लाम देश बन जाएगा| आप स्वयं जानते है कि जहां मुसलमानों कि संख्या अधिक है वह देश मुस्लिम-देश है | अगर है ऐसा कोई अपवाद हो तो कृपया हमें बताने का कष्ट करे| वर्ना पगार बढाने के लिए किसी देश भक्त पर कीचड़ उछालना बंद करे|
आप से प्रार्थना है कि कृपया कश्मीर पर भी एक लेख लिखे और बताए जनता को कि “ कश्मीर” के बारे में आप कि क्या नजरिया है|

honesty project democracy ने कहा…

नरेंद्र मोदी हो या मनमोहन सिंह किसी को भी किसी की हत्या का कोई अधिकार नहीं ,ऐसा करना न सिर्फ गैर कानूनी है बल्कि इनसानियत के खिलाप भी ,जरा सोचिये इसी तरह हम अपने स्वार्थ के लिए एक दुसरे की हत्या करने लगे तो क्या हम में से कोई भी बचेगा | आज जरूरत है समाज में सत्य और न्याय को मजबूत करने की और अगर इसके लिए मनमोहन सिंह,प्रतिभा पाटिल या नरेंद्र मोदी को भी जाँच कर सजा देने की जरूरत हो तो ऐसा जरूर किया जाना चाहिए | ऐसा हो इसके लिए हमसब को सर पर कफ़न बांधकर प्रयास करना चाहिए नहीं तो ये हरामी और भ्रष्ट नेता हम में से किसी को भी कभी भी मरवा देंगे ...

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

प्रायोजित लेख!