शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2010

नौसेना की भूमि पर सफ़ेदपोश अपराधियों ने बहुमंजिला ईमारत बना डाली

मुंबई के कोलाबा में नौसेना की भूमि को सफेदपोश अपराधियों ने नेताओं और अपराधियों की साठ-गाँठ से आदर्श कोपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी के नाम करा ली और उस पर 31 मंजिला ईमारत नियमो और उपनियमो को धता बताकर बना दीरक्षा विभाग सहित पूरे देश में सरकारी जमीनों पर बिल्डर्स, नौकरशाहों, और राजनेताओं की मिलीभगत से कब्जे हो गए हैं और उन पर निर्माण कार्य भी हो गए हैंदूसरी तरफ समाज में कमजोर तबकों की अपनी व्यक्तिगत प्रोपर्टी इन्ही तत्वों के कारण बचनी मुश्किल हो गयी हैउनकी जमीनों के फर्जी बैनामे हो जाते हैं और फिर अधिकारीयों और गुंडा तत्वों की मदद से निर्माण कार्य भी हो जाते हैंकमजोर व्यक्तियों की सुनवाई नहीं हो पाती हैजब रक्षा विभाग अपनी जमीनें नहीं बचा पा रहा है तो गरीब आदमियों की संपत्ति कैसे बचेगी
कोलाबा स्तिथ रक्षा विभाग की भूमि में बहुमंजिला ईमारत बन जाने के कारण नौसेना का हेलिपैड अन्य मिलिट्री संसथान नहीं बनाये जा सकते हैंइस मामले में रक्षा विभाग की आपत्तियों के बावजूद भी महाराष्ट्र सरकार ने हाउसिंग सोसाइटी वालों की ही मदद की हैऐसा लगता है कि देश में विधि का शासन नहीं हैसंविधान के तहत कार्य करने वाली संस्थाओं पर सफ़ेदपोश अपराधियों का कब्ज़ा हो गया हैसंविधान के तहत प्रत्येक नागरिक को संपत्ति रखने का अधिकार है और अब इस अधिकार का हनन तेजी से हो रहा है

सुमन
लो क सं घ र्ष !

4 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

ओह! नो!!

Tausif Hindustani ने कहा…

इनको कोई देशद्रोही नहीं कहेगा और ये प्रश्न नहीं उठाएगा की जब ये कुछ करोड़ के लिए इतने बड़े घोटाले में साथ दे सकते हैं चाहे कोई हो, मेजर जर्नल, मंत्री, संत्री, मुख्यमंत्री ,आला अधिकारी सब लिप्त है तो अगर दुश्मन देश इनके समक्ष करोड़ों का प्रस्ताव रख दे तो ये देश के साथ कोई भी गद्दारी करने में एक छण भी न लगायेंगे ,
dabirnews.blogspot.com

honesty project democracy ने कहा…

इस सोसाइटी में जितने लोगों के फ्लेट हैं वो सभी इस देश,समाज और इंसानियत के गद्दार हैं ..इन सभी को सरे आम फांसी पे चढ़ाया जाना चाहिए तब जाकर ऐसे अपराध इस देश में रुकेंगे नहीं तो ये देश लूटेरों और गद्दारों के हवाले होता जा रहा है ..इतने बेशर्म लूटेरे तो अंग्रेज भी नहीं थे ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

हर चीज़ की हद हो गयी है ..