शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

परिवर्तन होगा, तब होगा इस सिस्टम में जगह बना ले


ऊब गया है बैठे ठाले
चल थोडा सा नीर बहा ले

शर्ट पहन चे गुएवरा की
उसका सपना राम हवाले

जब भी सुख से मन उकताए
गीत सर्वहारा के गा ले

कमरे में .सी के ऊपर
लेनिन की तस्वीर लगा ले

परिवर्तन होगा, तब होगा
इस सिस्टम में जगह बना ले

-अमर ज्योति 'नदीम'