बुधवार, 15 अप्रैल 2009


कहेगा कैसे भला कोई वे अमाँ हमको।
की जब नवाज़ रहा है ये आसमां हमको ।

कोई ठिकाना नही है जुनूपरस्तों का
फ़िर आप ढूंढेंगे आख़िर कहाँ कहाँ हमको ।

गुलो का खार जमीं को फलक पड़े कहना
इलाही कर दे हमको इस आलम में बेजबाँ हमको ।

जमीन क्या है मुन्नवर है जिनसे अर्शेवारी
खुशनसीब मिला उनका आसमां हमको।

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही '

कोई टिप्पणी नहीं: