मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

जूते की बेइज्जती


गृह मंत्री चिदंबरम देश के बारे में कम सोचते है अमेरिका की सम्रद्धि के बारे में ज्यादा सोचते है। चिदंबरम साहब देश के गृहमंत्री नही है अपितु टाटा, बिरला ,अम्बानी के गृहमंत्री है। टाटा, अम्बानी ने ओबामा को चुनाव लड़ाया था अब कांग्रेस को चुनाव लड़वा रहे है। सी.बी.आई गृहमंत्री जी की व्यक्तिगत जांच एजेन्सी की तरह काम कर रही है । अमरीकन साम्राज्यवाद के विरोध के कारण इंदिरा गाँधी की हत्या साम्राज्यवादी ताकतों ने की थी और उन्ही के इशारों पर देश को कमज़ोर करने के लिए उन्ही शक्तियों ने सिखों का नरसंहार किया था। जिसके प्रतीक जगदीश टाइटलर थे। चिदंबरम ने उनको मुक्त कराया है। बेबस आवाम या तो इन राजनेताओं के मुँह पर थूक सकती है या हथियारो के नाम पर जूते या चप्पल होते है। बुश साहब के जूते खाने के बाद चिदंबरम साहब ने खाया है।अमेरिकन साम्राज्यवाद का हर एजेंट जूता खायेगा क्योंकि मजदूर किसान जनता भुखमरी की कगार पर बढ़ रही है।
जनरैल सिंह बधाई के पात्र है ॥
-----------एड़. रणधीर सिंह सुमन

कोई टिप्पणी नहीं: