शुक्रवार, 1 मई 2009

खूंटा पूँजीवाद

खूंटा पूँजीवाद के ,बंधी स्वराजी नाव
कितनेव केवट बदलिगे ,नाव ठांव की ठांव
नाव ठांव की ठांव ,तकै जनता मन मारे
खेवन हार हारिगे हिम्मत,नाव लागि किनारे
कह बृज़ेश बर्राय ,सकल दल साहस टूटा-
शान्ति अस्त्र चलि रहे, दनादन तनिक हाला खूंटा

(शान्ति अस्त्र का तात्पर्य धरना , प्रदर्शन , भूख हड़ताल )


बृज़ेश भट्ट 'बृज़ेश '

कोई टिप्पणी नहीं: