शनिवार, 2 मई 2009

प्रजातंत्र पत्ता अ़स हालै...

प्रजातंत्र पत्ता अ़स हालै,सत्ता बंटाधार;
देश का कोई जिम्मेदार
भूखन मरैं करैं हड़तालै , कोई सुनै पुकार;
डंडा -लाठी -गोली, बरसे परै करारी मार;
अत्याचार अनाचारों का,होइगा गरम बाजार;
रोज बने कानून कायदा,नेतन कै भरमार ;
चोरी,डाका,कतल,राहजनी ,कोई रोकनहार ;
दारु- पैसा बांटिक जीते,गुण्डे चला रहे सरकार;
चोर -ड़कैतन की रक्षा मा खड़े हैं ,थानेदार;

वकील-डॉक्टर-शिक्षक ,बालक जेल मा करें विहार;
देश का कोई जिम्मेदार

बृजेश भट्ट बृजेश

कोई टिप्पणी नहीं: