शुक्रवार, 5 जून 2009

उजाले नाम हमारा उछाल देते है ....


हमारी जान मुसीबत में डाल देते है
हमें हमारे वतन से निकाल देते है
धमाके आप अंधेरो में कर गुजरते है
उजाले नाम हमारा उछाल देते है

xxx----xxx---xxx--Mohammad saif Babar
mo.no.09936008545

बेखौफ़ घर से निकले सलामत ही घर में आएं
बच्चे बुरी बालाओं से हम सबके बच ही जाएं
दीवार गिर रही है अगर जुल्म की तो 'सै़फ़'
इंसानियत के जितने भी दुश्मन है दब ही जाएं

xxx-----xxx-----xxx-----mohammad Saif Babar
mo.no.-09936008545

ग़ज़ल

फिर तड़प के करार लिखना है
इश्क़ लिखना है प्यार लिखना है

ज़हर का है असर फिज़ाओ में
और हम को बहार लिखना है

लेके सर आ गए है मकतल में
दोस्तों की ये हार लिखना है

ज़िंदगी का मुतालबा देखो
ज़िंदगी को भी यार लिखना है

'सै़फ़' चल-चल के थक गए हैं हम
अब सुकूं और क़रार लिखना है

मोहम्मद सैफ बाबर
मोबाइल -09936008545

2 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

suman sahab, mohd saif babar hamare pasandeda shair hain hum enke likhe albums guzarish, raaz e ulfat,aah,khawaab aankhon mein. bahot mashhoor hue hain.hum enhe mushairon mein main bhi suna karte hain,"ujaale naam hamara uchaal dete hain" enka bada mashoor sher hai aur "be khouf ghar se niklen salamat hi ghar mein aayen !bachche bure balaon se hum sab ke bach hai jaayen !!" hamare " aaj ke halat saif sahab ne bahot khoob kaha hai. SANA ADEEB N.DELHI. sanaadeeb@in.com

बेनामी ने कहा…

kalam e mohd saif babar aapke blog par dekha jahan jee khush ho gaya wahin mazeed khushibhi hue ki aapne unhe raaze kiya ki wo aapke ke blog par aapna kalam dein kyonki saif sahab kai magzeen ke bahot israar par bhi apna kalam aasane se shaya hone ke waste nahi diya dete saif sabab tow hum chahane waalon se sirf MUSIC ALBUMS ya MUSHAIRON ke zariye hi judne main yaqeen rakhte hain.Bahar-Haal aapko unke qatat main se mashhoor qata "UJALE NAAM HAMARA UCHAL DETE HAIN"aur Tazatareen qata"BE-KHOUF GHAR SE NIKLAIN SALAMAT HI GHAR MAIN AAYEN-BACHCHE BURE BALAON SE HUM SAB KE BACH HI JAYEN" ko apne blog par pesh karne ke waste mubarkbad aur maroof shair mohd saif babar ka shukriya apne kalam ke liye. Ana Khan. NEW DELHI