बुधवार, 19 अगस्त 2009

अनगिनत नाम बंधन के


नियति ,कर्म या भाग्य ईश,
अनगिनत नाम बंधन के।
अनचाहे ही अनुबंधित,
है सारे जीव जगत के ॥

यह धरा स्वर्ग हो जाए,
क्या मानव जी पायेगा ।
पतझड़ में कलिका फूले ,
क्या सम्भव हो पायेगा ॥

पुष्पों को तोड़ पुजारी ,
साधना सफल करता है।
पाषाण ह्रदय का मन भी,
क्या उसे ग्रहण करता है॥

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'