रविवार, 28 फ़रवरी 2010

बुरा मनो या भला क्या कर लोगे होली है : खूने जिगर भी बहाओ तो जानूँ


wishingfriends.com


रंगो की होली तो सब खेलते हैं।
खून जिगर भी बहाओं तो जानूँ।।
प्रेम के रंग में मन भी रंग जाए बन्धू।
कोई ऐसी होली मनाओं तो जानूँ।।
दो बदन मिलना केाई जरूरी नहीं।
दिल से दिल को मिलाओं तो जानूँ।।
ठुमरी वो फगुआ तो गाते सभी हैं।
प्रेम का गीत कोई सुनाओ तो जानूँ।।
मुहब्बत बढ़े और मिट जाए नफरत।
कोई रीति ऐसी चला तो जानूँ।।
रूला देना हँसते को है रस्में दुनिया।
रोते हुए की हँसाओ तो जानूँ।।
है आसान गुलशन को वीरान करना।
उजड़े चमन को बसाओ तो जानूँ
अपना चमन प्यारे अपना चमन है।
दिलोजान इस पर लुटाओं तो जानूँ।।
मिट जाए जिससे दिलो का अँधेरा।
कोई शम्मा ऐसी जलाओं तो जानूँ।।
ऐशो इशरत में तो साथ देती है दुनिया।
मुसीबत में भी काम आओ तो जानूँ।।
मुस्कराना तो आता है सबको खुशी में।
अश्कें गम पीके भी मुस्कराओ तो जानूँ।।
अपनों वो गैरों की खुशियों के खातिर।?
जमील अपनी हस्ती मिटाओं तो जानूँ

-मोहम्मद जमील शास्त्री

wishingfriends.com
। सभी चिट्ठाकार बंधुओं को परिवार सहित होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

7 टिप्‍पणियां:

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

होली की बहुत-बहुत शुभकामनायें.

Babli ने कहा…

आपको और आपके परिवार को होली पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

निर्मला कपिला ने कहा…

मुस्कराना तो आता है सबको खुशी में।
अश्कें गम पीके भी मुस्कराओ तो जानूँ।।
अपनों वो गैरों की खुशियों के खातिर।?
जमील अपनी हस्ती मिटाओं तो जानूँ
वाह गज़ल का हर एक शेर लाजवाब है। जमील शास्त्री जी को बधाई सब को होली की हार्दिक शुभकामनायें

जी.के. अवधिया ने कहा…

आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ!

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप ओर आप के परिवार को होलॊ की बधाई ओर शुभकामानाये

ज्योति सिंह ने कहा…

asali rang to yahi hai,poori rachna shaandaar ,happy holi

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

.....होली की लख-लख बधाईंया व शुभकामनायें!!!!!