सोमवार, 5 अप्रैल 2010

जाऊं में तुमको ढूढने अब दरबदर कहाँ

चंगुल से बच के मौत के जाए बशर कहाँ
आलामे रोज़गार से उसको मफ़र कहाँ
जिस जिंदगी पे मान है इंसान को बड़ा
वह जिंदगी भी अस्ल में है मातबर कहाँ
आवाज दो कि कौन सी मंजिल में खो गए
फिरती है तुमको ढूंढती अपनी नज़र कहाँ
तुमने तो अहद बांधा था इक उम्र का मगर
खुद ही बताओ पूरा हुआ है सफ़र कहाँ
किन बस्तियों में दूर उफ़क़ से निकाल गए
जाऊं में तुमको ढूढने अब दरबदर कहाँ
हिरमाँ नसीब रह गयी है आरजुएँ सब
हैराँ है अक्ल जाए ये फ़ानी बशर कहाँ
जाकर जहाँ से कोई भी लौटा फिर कभी
तुमने बसा लिया है भला अपना घर कहाँ
रह्वारे उम्र जीस्त की रह में खां दवाँ
लेकिन अज़ल से इसको भी हासिल मफ़र कहाँ
किरने तो चाँद अब भी बिखेरेगा सहन में
पहली सी रौशनी मगर वह बाम पर कहाँ
अश्कों से नामा लिखा जो मैंने तुम्हारे नाम
लेकर बताओ जाए उसे नामावर कहाँ
ये दस्ताने गम तो बड़ी ही तावील है
ये दस्ताने गम हो भला मुख़्तसर कहाँ
जावेद तेरे दोस्तों की है यही दुआ
मरहूमा पर हो रहमते अल्लाह की सदा

सरवर अम्बालवी
रावलपिंडी

नोट- अजीज दोस्त गुलजार जावेद की धर्मपत्नी की मौत पर

आलामेरोजगार- दुखों का आवागमन
मफर- छुटकारा
उफ़क - आसमान से आगे
हिरमाँ - निराश, नाउम्मीदी
ज़ीस्त - जिंदगी
अज़ल- मरण
बाम- छत
नामवर - ख़त ले जाने वाला संदेशवाहक
तवील- लम्बी


पकिस्तान के रावलपिंडी से प्रकाशित चहारसू (मार्च-अप्रैल अंक 2010) से श्री गुलज़ार जावेद की अनुमति से उक्त कविता यहाँ प्रकाशित की जा रही हैजिसका लिपिआंतरण मोहम्मद जमील शास्त्री ने किया है

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

7 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...प्रसंशनीय गजल,प्रभावशाली प्रस्तुति!!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जी नाईस ही नाईस

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

वेरी वेरी नाइस- सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

PD ने कहा…

nice.. :)

सुलभ § सतरंगी ने कहा…

जी शुक्रिया !
इस प्रस्तुति के लिए

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

बहुत उम्दा ,
जज़्बात का बहुत ही पुर असर इज़हार है ,
और ज़िंदगी की हक़ीक़त व फ़लसफ़ा अलफ़ाज़ में पिन्हां है
बहुत ख़ूब