शुक्रवार, 3 दिसंबर 2010

देश के विकास के लिए

देश के विकास के लिए
नया समझौता किया गया है
गंगाजल को बेचकर हम
विदेशी मुद्रा कमाएंगे
विदेशी पूँजी निवेश से
देश का आम आदमी
खुशहाली की ओर बढेगा
सरकार हर गाँव में अब
केम्प लगाकर आत्महत्या के
नए नए तरीके सिखाएगी
सभी सूखाग्रस्त प्रदेशों में
मंत्री जी के मूत से
नई पनबिजली परियोजना
जल्द ही चालू होगी
ताकि नए बिजली चालित
शवदहन संयंत्र के प्रयोग से
देश में होने वाले प्रदुषण को
नियंत्रित किया जा सके
-केदार नाथ "कादर"

2 टिप्‍पणियां:

honesty project democracy ने कहा…

हालात तो कुछ ऐसे ही हैं......

'उदय' ने कहा…

... kyaa baat hai ... sundar post !!!