बुधवार, 23 फ़रवरी 2011

अरब देशों में परिवर्तन की बयार

मिस्त्र और ट्यूनीशिया का हालिया घटनाक्रम सुखद आश्चर्य के रूप में सामने आया। शायद ही किसी को यह उम्मीद रही होगी कि इन देषों में अचानक जनाक्रोश का विस्फोट हो जावेगा परंतु जमीनी हकीकत से खुद को बाबस्ता रखने वालों के लिए इन दो देशों में हुई जनक्रांति अनापेक्षित नहीं थी। दुनिया के बहुत से विद्वान और टीकाकार, इस्लाम को प्रजातंत्र-विरोधी और तानाशाहों का समर्थन करने वाला धर्म बताते रहे हैं। जबकि तथ्य यह है कि इस्लामिक दुनिया के तानाशाहों का समर्थन मुख्यतः पश्चिमी देशों ने अपने हितों के रक्षार्थ किया और अब भी कर रहे हैं।
जब काहिरा की सड़कों पर हुस्नी मुबारक को सत्ता से बाहर करने के लिए लाखों लोग सिर पर कफन बांधकर निकल पड़े तो पष्चिमी देष और उनके पिट्ठू हतप्रभ रह गए। अब इजराईल चाहता है कि मिस्त्र में प्रजातंत्र का आगाज न हो सके क्योंकि उसके अनुसार, प्रजातंत्र का अर्थ होगा “इस्लामिक ब्रदरहुड“ (इस्लामीक एकता या बंधुत्व) की जीत। इससे पहले, जब फिलिस्तीन में प्रजातांत्रिक चुनाव के जरिए हमास पार्टी सत्ता में आई थी तब इजराइल और अमरीका ने हमास सरकार को मान्यता देने से इंकार कर दिया था। यह तो है अमरीका और इजराइल की प्रजातंत्र के प्रति प्रतिबद्धता के नमूने।
कोई धर्म प्रजातंत्र-विरोधी या प्रजातंत्र-समर्थक नहीं होता। धर्म का वास्ता नैतिक, आध्यात्मिकता व ईश्वर से संबंधित मसलों से है। जो लोग धर्म को राजनीति से जोड़ते हैं, वे अपने हितों की पूर्ति के लिए ऐसा करते हैं। कुरआन यह कहीं नहीं कहती कि धर्म और राजनीति को विलग नहीं किया जा सकता। वैसे भी राजनीति, कुरआन की विषयवस्तु नहीं है। इस्लाम, प्रजातंत्र का उतना ही समर्थक या विरोधी है, जितना कि कोई अन्य धर्म। इस्लाम के प्रजातंत्र-विरोधी होने का दुष्प्रचार पष्चिमी राजनेता व मीडिया करता रहा है।
जब भी किसी इस्लामिक देश में प्रजातंत्र के उदय की संभावनाएं परिलक्षित होतीं हैं, अमरीका तुरत-फुरत वहां के तानाशाहों के समर्थन में सक्रिय हो जाता है। इंडोनेशिया से लेकर अरब देषों तक, अमरीका यही करता रहा है। अमरीका एक ओर तानाशाहों का साथ देता तो दूसरी ओर इस्लाम को प्रजातंत्र-विरोधी बताता है। मिस्त्र में हुस्नी मुबारक की तानाषाह सरकार को अमरीका व इजराइल का समर्थन प्राप्त था। जब ओबामा को लगा कि हुस्नी मुबारक ने जनता का भरोसा पूरी तरह से खो दिया है तब उन्होंने मुबारक को अप्रत्यक्ष रूप से, अपना पद छोड़ने की सलाह देनी षुरू कर दी। परंतु यह सुनिष्चित है कि अमरीका पूरा प्रयास करेगा कि मिस्त्र में जो भी सत्ता में आए, वह अमरीकी व इजराईली हितों की रक्षा करे।
मिस्त्र में किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जनता का भरोसा जुटाना मुष्किल होगा, जो मुबारक की तरह, अमरीकी हितों का चैकन्ना पहरेदार हो।
अरब देषों में परिवर्तन की एक नई बयार बह रही है। ओसामा बिन लादेन के नेतृत्व में मुट्ठी भर युवाआंे ने अमरीका व इजराईल की हिंसा का जवाब हिंसा से देने की कोषिष की परंतु इसके घातक परिणाम हुए। अरब के युवावर्ग को यह अहसास हो गया है कि हिंसा के रास्ते पर चलकर वे अपना लक्ष्य प्राप्त नही कर सकंेगे। षांतिपूर्ण, प्रजातांत्रिक संघर्ष ही दूरगामी व स्थाई परिवर्तन ला सकता है।
मिस्त्र व ट्यूनीषिया के घटनाक्रम ने कई अरब षासकों को भयाक्रांत कर दिया है। यमन के राष्ट्रपति अली अबु सलेह ने घोषणा कर दी है कि सन् 2013 में उनके कार्यकाल के समाप्त होने के बाद सत्ता में बने रहने का उनका कोई इरादा नहीं है। ट्यूनीषिया, मिस्त्र व येमन में एक समानता है। तीनों ही देष गरीब हैं और तीनों में ही कुंठित, बेरोजगार युवाओं की बड़ी फौज है। धनी अरब देषों के युवा, गरीबी व बेरोजगारी जैसी समस्याओं से नहीं जूझ रहे हैं और इस कारण, ट्यूनीषिया, मिस्त्र व येमन जैसा जनाक्रोष भड़कने की संभावना वहां कम ही है।
जहाँ यह सही है कि तेल-उत्पादक धनी अरब देषों के लोगों को आर्थिक समस्याओं से दो-चार नहीं होना पड़ रहा है वहीं इसके कोई संदेह नहीं कि मिस्त्र के घटनाक्रम का प्रभाव इन देषों की राजनैतिक संस्कृति पर पड़े बिना नहीं रह सकेगा। देर-सबेर, सभी अरब देष इससे प्रभावित होंगे। इन सभी देषों में अमरीका-समर्थित तानाषाह राज कर रहे हैं।
इन देषों के षासक, अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए पूरी तरह से अमरीका पर निर्भर हैं और अमरीका, उनका इस्तेमाल अपने व इजराईल के हितों की रक्षा के लिए करता है। यही कारण है कि इजराईल द्वारा फिलिस्तिीनियों के साथ किए जा रहे अमानवीय व्यवहार को ये देष चुपचाप देखते रहते हैं। उनमें अमरीका व इजराईल के खिलाफ एक षब्द बोलने की हिम्मत नहीं है। इन देषों की जनता, अपने षासकों की इस कायरता से नाराज अवष्य है पंरतु प्रजातंत्र के अभाव में, वह अपना रोष प्रकट नहीं कर पाती है। किसी भी प्रकार के
विरोध को इन देषों में निर्ममतापूर्वक कुचल दिया जाता है। हुस्नी मुबारक भी अपने विरोधियों को क्रूर षारीरिक यंत्रणा देने के लिए कुख्यात था।
अरब देषों के षासकों, बादषाहों, षेखों व तानाषाहों की अलोकप्रियता का मुख्य कारण है फिलिस्तीनी समस्या के प्रति उनका रवैया। ये सभी इजराईल को अमरीकी समर्थन के मुद्दे पर स्थायी चुप्पी साधे रहते हैं और उनकी यह नीति इन देषों के नागरिकों को कतई रास नहीं आती। मिस्त्र की हालिया क्रान्ति, अपितु, फिलिस्तीन के प्रष्न पर नहीं हुई। वहां की जनता, हुस्नी मुबारक से त्रस्त थी।
इस सिलसिले में यह महत्वपूर्ण कि मुबारक सरकार ने इजराईल को गाज़ा पट्टी की घेराबंदी करने में हमेषा पूरी मदद की। इस घेराबंदी से फिलीस्तीनियों का जीवन दूभर हो गया है। यह भी ध्यान देने की बात है कि मिस्त्र की क्रान्ति का कोई एक नेता नहीं था। यह सही अर्थों में जनक्रान्ति थी। किसी एक नेता ने जनता से विद्रोह का झंडा उठाने का आव्हान नहीं किया था और न ही जनता के रोष को षाँतिपूर्ण विद्रोह की दिषा देने के लिए कोई चमत्कारी नेता सामने आया था।
एक सर्वमान्य नेता के अभाव के बावजूद भी मिस्त्र का आंदोलन षाँतिपूर्ण व अनुषासित बना रहा। कुछ स्थानों पर मामूली हिंसा, आगजनी और लूटपाट की घटनाएं अवष्य हुईं परंतु ये अपवादस्वरूप ही थीं। यह विद्रोह, आम लोगों की पहल पर आम लोगों ने किया। यह अत्यंत विस्मयकारी है कि जिस देष में कई दषकों से प्रजातंत्र नहीं था, वहां की जनता ने अत्यंत अनुषासित ढंग से आंदोलन का संचालन किया। परिपक्व प्रजातंत्रों में भी आंदोलन अक्सर हिंसक रूप अख्तियार कर लेते हैं।
मिस्त्र के घटनाक्रम से एक बार फिर यह सिद्ध हो गया है कि अरब देषों के निवासी, अनुषासित ढंग से षाँतिपूर्ण, प्रजातांत्रिक आंदोलन करने में सक्षम हैं और यह भी कि मुसलमानों में प्रजातंत्र के प्रति आकर्षण है। इससे उस पष्चिमी दुष्प्रचार का पुरजोर खंडन होता है कि मुसलमानों का मिजाज, प्रजातंत्र से मेल नहीं खाता।
मिस्त्र का घटनाक्रम, इंडोनेषिया के घटनाक्रम से काफी मिलता-जुलता है। इंडोनेषिया के तानाषाह सुहार्तो, कई दषकों तक अमरीका के समर्थन से अपने देष पर राज करते रहे। जैसे ही अमरीका ने सुहार्तो को समर्थन देना बंद किया, उनकी सरकार गिर गई और बिना किसी समस्या के इंडोनेषिया में प्रजातंत्र का आगाज हो गया। आज इंडोनेषिया-जो विष्व का सबसे बड़ा इस्लामिक देष हैं-में प्रजातंत्र फल-फूल रहा है। वहां नियमित रूप से चुनाव होते हैं।
मिस्त्र, ट्यूनीषिया, येमन, इंडोनेषिया आदि का फिलिस्तीन समस्या व कच्चे तेल के संसाधनों से कोई लेना-देना नहीं था। इसके विपरीत, अरब देषों के तानाषाह, अमरीका को कहीं अधिक प्यारे हैं। इसका कारण है कच्चे तेल के भंडार और इजराईल। अमरीका के कारखाने व कारें चलती रहेें इसके लिए तेल जरूरी है। और अरब देष, अमरीका के नियंत्रण में बने रहें, इसके लिए इजराईल की जरूरत है।
अतः यह स्पष्ट है कि मध्यपूर्व के मामले में, अमरीका उस तरह तटस्थ नहीं बना रहेगा जैसा कि उसने इंडोनेषिया के संदर्भ में किया। मध्यपूर्व में अमरीका के रणनीतिक व आर्थिक हित हैं, जिनकी वह हर कीमत पर रक्षा करने का प्रयास करेगा। अमरीका की पहली कोषिष तो यही होगी कि मध्यपूर्व के देषों में उसकी कठपुतली सरकारें षासन में रहें। अगर ऐसा न भी हो सका तो अमरीका कम से कम इतना तो चाहेगा ही कि वहां जो भी षासक हों, वे पष्चिमी देषों से मधुर संबंध रखें।
बहरहाल, मिस्त्र के लोगों ने एक नया इतिहास रच दिया है। अपने तीन सप्ताह लंबे सफल संघर्ष के जरिए उन्होंने दर्शा दिया है कि वे प्रजातंत्र और अहिंसा के पुजारी हैं और वे अहिंसा के रास्ते पर चलकर परिवर्तन लाने में सक्षम हैं। महात्मा गाँधी जैसा कोई नेता मिस्त्र में नहीं था परंतु फिर भी वहां की जनता अहिंसा के रास्ते से नहीं डिगी।
मिस्त्र की जनता ने यह दिखा दिया कि वह प्रजातंत्र की हामी है और इस मिथक को तोड़ दिया है कि मुसलमान एक हिंसक कौम हैं और उन्हें प्रजातंत्र में कोई दिलचस्पी नहीं है।
इससे यह भी साफ हो गया है कि अहिंसक संघर्ष से बहुत कम समय में जो हासिल किया जा सकता वह दशकों की हिंसक लड़ाई से भी नहीं मिल सकता। अहिंसा जिंदाबाद! शांतिपूर्ण संघर्ष की जय!

-डॉ. असगर अली इंजीनियर

3 टिप्‍पणियां:

Kajal Kumar ने कहा…

चलो अच्छा है. सही से लोकतंत्र स्थापित हों न कि कट्टरपंथी.

Adi Chourasiya ने कहा…

डॉ. असगर अली इंजीनियर, निश्चय ही यह एक उत्तम प्रयास है इजिप्ट में हुए घटनाक्रम को हमतक पहुचाने का , पर क्या इस त्वरित टिपण्णी का उद्देश्य भविष्य में संभव सशस्त्र विरोध को रोकना है ?
अगर ऐसा है तो मुझे मेरा एकमात्र दृष्टिकोण रखने दे कि इजिप्ट में हुई क्रांति शांति पूर्ण थी क्यूँकी सैनिक ताकत ने इसे कुचला नहीं बल्कि साथ दिया , इसका ये बिलकुल मतलब नहीं की हम अब इस बात पर उनकी पीठ थपथपाने लगे. काश कि ये सिर्फ शक्ति हस्तांतरण सिध्द न हो और अमेरिकी बुर्जुआ जनतंत्र को बढ़ावा न मिले ( जिसके आसार अभी सबसे ज्यादा है ).
इजिप्ट क्रांति निश्चित ही जनता की और सत्य की विजय है . भविष्य के गर्भ में हमारे अपने कर्मो का बीज है . सितम्बर के चुनाव इसका फैसला करेंगे. तब तक सबको आप जैसे विचारको का दिशानिर्देश हमें मिले ऐसी हमारी शुभेच्छा है .

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

चाहे जो भी हो मगर लोकतन्त्र वहाँ नहीं आ पायेगा!