रविवार, 15 जुलाई 2012

इडियाटिक आर्डर


माननीय उच्च न्यायालय के वरिष्ठ न्यायमूर्ति सईदुज्ज्मा सिद्दीकी ने बाराबंकी के पूर्व जिला अधिकारी विकास गोठलवाल के सम्बन्ध में अपने एक जमानत आदेश में लिखा है कि यह इडियाटिक आर्डर है मामला यह है कि थाना रामनगर जिला बाराबंकी की पुलिस ने एक व्यक्ति दिनेश लोनिया को नौ सौ रुपये की बरामदगी के एक मात्र केस पर पुलिस रिपोर्ट के आधार पर गैंगेस्टर एक्ट की कार्यवाई की स्वीकृति जिला मजिस्टेट विकास गोठलवाल ने दी थी जिसको माननीय उच्च न्यायालय ने इडियाटिक आर्डर माना और उत्तर प्रदेश सरकार को निर्देशित किया कि वह दिनेश लोनिया को मुआवजा दे और मुआवजे की रकम विकास गोठलवाल की तनख्वाह से काट ले न्यायालय ने यह भी आदेश पारित किया कि विकास गोठलवाल जैसे इडियाटिक आर्डर पास करने वाले अधिकारी को जिला अधिकारी किसी जिले में रखा जाए बाराबंकी की वर्तमान जिला मजिस्टेट ने उत्तर प्रदेश शासन को लिखा है कि उच्च न्यायालय के उक्त आदेश के विरुद्ध अपील की जाए महत्वपूर्ण बात यह है कि इन अधिकारीयों को शर्मिंदगी महसूस होने के बजाये जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा अपील में खर्च करने जा रहे हैं
अब सवाल उठता है कि इडियाटिक आर्डर है क्या ? गैंगेस्टर एक्ट या निरोधात्मक कानून का प्रयोग जिला मजिस्टेट थाने के दरोगा की रिपोर्ट जिस व्यक्ति के सम्बन्ध में वह पुलिस अधीक्षक को भेज देता है पुलिस अधीक्षक आँख मूंदकर उस रिपोर्ट को जिला मजिस्टेट को स्वीकृति के लिये भेज देता है इस पूरी प्रक्रिया में विवेक न्यायिक मष्तिष्क का प्रयोग नहीं किया जाता है जिस कारण बड़े-बड़े अधिकारीयों के खिलाफ कोई कार्यवाई नहीं होती है लेकिन दरोगा जिस व्यक्ति से चिढ़ा हुआ होता है उसकी ऐसी की तैसी निरोधात्मक कार्यवाइयों से हो जाती है अच्छा होता कि माननीय उच्च न्यायालय उस जज के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाई करता जिस जज ने दिनेश लोनिया के गैंगेस्टर एक्ट के लागू होते हुए भी जमानत ख़ारिज कर दी थी वस्तुस्तिथि यह है कि न्याय पालिका के मजिस्टेट जज तथा कार्यपालिका के मजिस्टेट जनता को परेशान करने के लिये इडियाटिक आर्डर रोज पास करते रहते हैं और उनके खिलाफ कोई कार्यवाई नहीं होती है इडियट मजिस्टेट या जज इडियाटिक आर्डर ही पास करते हैं उसमें न्यायिक मस्तिष्क का कहीं प्रयोग नहीं होता है महत्वपूर्ण यह है उत्तर प्रदेश उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने यह आदेश पारित कर न्याय देने की प्रक्रिया को और उचाईयों तक ले जाने का कार्य किया है जिसके लिये वह बधाई के पात्र हैं

सुमन
लो क सं घ र्ष !