शनिवार, 4 जनवरी 2014

क्या सांप्रदायिक हिंसा 2013 -भाग1

केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिं दे और आईबी के निदेशक सैय्यद आसिफ इब्राहिम ने हाल में आयोजित राज्यों के पुलिस महानिदेशकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए इस तरह की प्रक्रिया अपनाने पर जोर दिया जिससे साम्प्रदायिक दंगों को शुरू होने से पहले ही रोका जा सके। दुःख की बात यह है कि पुलिस अक्सर दंगे भड़कने का पूर्वानुमान लगाने में असफल रहती है और इस संबंध में संकेतों को नजरअंदाज करती है। साम्प्रदायिक हिंसा की दृष्टि से वर्ष 2013, उसके पिछले साल से और खराब गुजरा। राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक में गृह मंत्रालय द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों के अनुसार, सन 2013 में देश के विभिन्न भागों में हुई साम्प्रदायिक हिंसा में 107 लोग मारे गए, जिनमें 66 मुसलमान थे और 41 हिन्दू। वर्ष में साम्प्रदायिक हिंसा की कुल 479 घटनाएं हुईं, जिनमें 107 मौतों के अलावा 1697 लोग घायल हुए, जिनमें से 794 हिन्दू थे, 703 मुसलमान और 200 पुलिसकर्मी। बिहार में साम्प्रदायिक गड़बड़ी की 40 घटनाएं हुईं और अन्य 25 मौकों पर साम्प्रदायिक तनाव उपजा। बिहार में 9 मौतें हुईं। मृतकों में से 5 हिन्दू थे और 4 मुसलमान, जबकि घायलों में 123 हिन्दू थे, 66 मुसलमान और 19 पुलिसकर्मी।
गुजरात में साम्प्रदायिक हिंसा की कुल 64 वारदातों में 6 मौतें (3 मुसलमान व 3 हिन्दू) हुईं और 147 लोग घायल हुए (85 हिन्दू, 57 मुसलमान व 5 पुलिसकर्मी)। पिछले साल राज्य में 5 मौतें हुईं थीं और 500 व्यक्ति घायल हुए थे। घटनाओं की संख्या की दृष्टि से गुजरात, उत्तरप्रदेश के बाद दूसरे नंबर पर है परंतु बिहार में मृतकों की संख्या गुजरात से अधिक है।
उत्तरप्रदेश में साम्प्रदायिक हिंसा में सबसे ज्यादा मौतें हुईं। अक्टूबर 2013 तक वहां 62 लोग मारे जा चुके थे। दिनांक 18 अक्टूबर के इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार मुजफ्फरनगर दंगों में 62 लोग मारे गए जिनमें से 46 मुसलमान थे और 16 हिन्दू।
सन 2012 में देश में साम्प्रदायिक हिंसा की 640 घटनाएं हुईं थीं जिनमें 93 व्यक्ति48 मुसलमान, 44 हिन्दू और 1 पुलिसकर्मीमारे गए थे और 2067 व्यक्ति घायल हुए थे, जिनमें 1010 हिन्दू थे, 787 मुसलमान, 222 पुलिसकर्मी और 48 अन्य। यद्यपि 2013 में साम्प्रादायिक हिंसा की घटनाओं में 2012 की तुलना में कमी आई तथापि इन घटनाओं में मौतों की संख्या 93 से ब़कर 107 हो गई। सन 2012 में भी उत्तरप्रदेश में सबसे अधिक 117 घटनाएं हुईं थीं जिनमें 39 लोग मारे गए थे। इनमें से 20 हिन्दू थे और 19 मुसलमान।
सन 2013 में दंगों की भयावहता में वृद्धि का एक कारण लोकसभा चुनावों का नजदीक आना है। इसके लिए मतदाताओं को जातिगत और सांप्रदायिक आधारों पर ध्रुवीकृत किया जा रहा है। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने अपने विश्वासपात्र सिपहसालार अमित शाह को उत्तरप्रदेश राज्य का प्रभारी नियुक्त किया है। अमित शाह उस स्थल पर पहुंचे जहां कभी बाबरी मस्जिद हुआ करती थी और रामजन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए प्रार्थना की। इसके बाद संघ परिवार ने साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण को ब़ावा देने के लिए अयोध्या में 84 कोसी परिक्रमा का आयोजन किया। ज्ञातव्य है कि इस तरह की यात्रा की कोई परंपरा नहीं थी। संघ परिवार ने मुसलमान लड़कों और हिन्दू लड़कियों के बीच प्रेम को ॔लव जिहाद’ की संज्ञा दी। बांग्लादेश से गैरकानूनी घुसपैठ’ को एक बड़ा मुद्दा बनाया गया और असम, दिल्ली, मुंबई व अन्य राज्यों में रहने वाले बांग्लाभाषी मुसलमानों को ॔अवैध घुसपैठिया’ घोषित कर दिया गया। ऑल असम स्टूडेन्टस यूनियन के अतिरिक्त बोडोलैण्ड के बोडो नेता भी अब अपने उन पड़ोसियों को अवैध घुसपैठिये बता रहे हैं जो उनके मोहल्लों में पीयिों से रह रहे हैं। गुजरात, मध्यप्रदेश, छत्तीसग़, राजस्थान, हरियाणा और कुछ हद तक महाराष्ट्र में गौवध निषेध अभियान चलाए गए। इस अभियान के अंतर्गत पुलिस के सहयोग से संघ परिवार के स्वनियुक्त धर्मरक्षक ऐसी गाड़ियों को रोकते हैं जिनमें मवेशियों को ोया जा रहा हो। अगर वाहन का मालिक या ड्रायवर मुसलमान हो तो उनसे भारी रिश्वत की मांग की जाती है। अगर वे रिश्वत नहीं देते तो पुलिस को बुलाकर उनका वाहन और मवेशियों को इस आधार पर जब्त करा दिया जाता है कि वे गायों को वध के लिए बेचने ले जा रहे थे। अक्सर मुसलमान मालिक या ड्रायवर की जमकर पिटाई भी की जाती है। इन नए मुद्दों के इस्तेमाल का अर्थ यह नहीं है कि संघ परिवार ने अपने पुराने मुद्दे त्याग दिए हैं। जो दुष्प्रचार संघ परिवार वर्षों से करता आ रहा है वह 2013 में भी जारी रहा। इसमें शामिल है ॔सभी मुसलमान आतंकवादी होते हैं’, ॔मुसलमान पाकिस्तान के प्रति वफादार होते हैं’, ॔बहुपत्नि प्रथा के कारण मुस्लिम आबादी बहुत तेजी से ब़ रही है और जल्दी ही वे देश में बहुसंख्यक बन जाएंगे’ आदि। इन मुद्दों पर अनवरत दुष्प्रचार और इनके जरिए समर्थन जुटाने की कोशिशों के कारण ही साम्प्रदायिक दंगों में मृतकों की संख्या में इजाफा हुआ। सन 2012 की तुलना में सन 2013 में दंगायी तुलनात्मक दृष्टि से अधिक खतरनाक हथियारों से लैस थे और दंगों की योजना भी बेहतर ंग से बनाई गई थी। संघ परिवार की दंगों में संलिप्तता इस तथ्य से जाहिर है कि बिहार में आरजेडीभाजपा गठबंधन टूटने के चार हफ्तों के भीतर साम्प्रदायिक हिंसा की 17 घटनाएं हुईं। छःह सप्ताह बाद यह आंकड़ा 24 पर पहुंच गया।
सन 2013 में संघ परिवार ने साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए बड़े स्तर पर हिंसा तो करवाई ही, लंबे समय तक चलने वाली छुटपुट हिंसा का इस्तेमाल भी किया। जहां मुजफ्फरनगर और किश्तवार, बड़े पैमाने पर किंतु सीमित समय के लिए दंगे करवाने के उदाहरण हैं वहीं मध्यप्रदेश और गुजरात सहित कई अन्य राज्यों में हिंसा की आग को धीमेधीमे सुलगाए रखा गया। अफवाहों के अलावा दंगाईयों को इकट्ठा करने के लिए सोशल मीडिया का भी जमकर इस्तेमाल हुआ। भाजपा विधायक संगीत सोम को एक नकली एमएमएस प्रसारित करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इस एसएमएस को मुजफ्फरनगर और उसके आसपास के इलाकों में इस दावे के साथ प्रसारित किया गया कि उसमें दिखाए गए दृश्य सचिन और गौरव नामक दो हिन्दू लड़कों की मुसलमानों द्वारा पिटाई के हैं। इन दोनों लड़कों की बाद में मृत्यु हो गई। जो वीडियो क्लिप इस्तेमाल की गई, दरअसल, वह पाकिस्तान में हुई किसी घटना की थी। इसमें कोई संदेह नहीं कि वीडियो क्लिप ने जाट महापंचायत में भारी भीड़ इकट्ठा करने में मदद की। मुजफ्फरनगर में हुई क्रुर हिंसा और महिलाओं का शीलभंग करने की बड़े पैमाने पर कोशिशों के लिए भी यह एमएमएस काफी हद तक जिम्मेदार था। एक महिला के शव के दो टुकड़े कर दिए गए और एक 10 वर्ष के बच्चे का सिर फोड़ दिया गया। जिन 53 शवों का शवपरीक्षण किया गया उनमें से 13 को इस बुरी तरह से मारा गया था कि उन्हें पहचानना बहुत मुश्किल था।
मुजफ्फरनगर घटना का एक चिंताजनक पहलू यह है कि सांप्रदायिक धु्रवीकरण का वाईरस ग्रामीण क्षेत्रों में भी फैल गया है। इस इलाके के जाट और मुसलमानजिनमें से अधिकांश पिछड़ी जातियों के हैंकी एक ही संस्कृति है और वे एक ही बोली बोलते हैं। वे सदियों से मिलजुल कर रह रहे हैं और उन्होंने सन 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम में कंधे से कंधा मिलाकर हिस्सेदारी की थी। लव जिहाद के दुष्प्रचार और ॔बहूबेटी बचाओ अभियान’ के जरिए जाटोंजो अपनी महिलाओं पर बहुत कड़ा नियंत्रण रखते हैंको यह विश्वास दिला दिया गया कि उनकी बहूबेटियों को आदमखोर मुसलमानों से खतरा है। इन दंगों का चार जिलों के ग्रामीण इलाकों में फैल जाना चिंताजनक है। अपने घरों से बेघर कर दिए गए मुसलमान अब भी अपने गांव वापस नहीं जा पाए हैं।
महाराष्ट्र
महाराष्ट्र में सन 2013 में साम्प्रदायिक हिंसा की 64 घटनाएं हुईं जिनमें 11 लोग मारे गए और 271 घायल हुए। मृतकों में से 11 अल्पसंख्यक समुदाय से थे। घायलों में 101 हिन्दू थे, 106 मुसलमान और 64 पुलिसकर्मी।
सन 2013 में राज्य में साम्प्रदायिक हिंसा की शुरूआत धुले से हुई। एक मुसलमान ऑटो ड्रायवर की शहर के केन्द्र में स्थित माधवपुर में एक रेस्टोरेंट के मालिक किशोर वाघ से 30 रूपए के बिल को लेकर विवाद हुआ। वाघ ने ऑटो ड्रायवर के चेहरे पर करछुल से वार किया। ड्रायवर जल्दी ही करीब एक दर्जन युवकों के साथ वापस पहुंचा। इस बीच रेस्टोरेंट में भी लोग इकट्ठा हो गए थे। मुस्लिम दंगाईयों ने पास में स्थित पुलिस चौकी का फर्नीचर और दस्तावेज बाहर निकाले और सड़क पर रखकर उनमें आग लगा दी। इसके बाद बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी वहां पहुंचे और उन्होंने हिंसक भीड़ पर गोलियां चलाईं। गोलीचालन में छह मुसलमान मारे गए और 229 घायल हुए। घटना में 113 पुलिसकर्मियों को भी चोटें आइंर्।
यह घटना 6 जनवरी 2013 की है। बाद में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा घटना की जांच में यह पाया गया कि पुलिस ने जरूरत से ज्यादा बल का इस्तेमाल किया था और सही प्रक्रिया का पालन नहीं किया। इसके बाद, 8 फरवरी को 6 पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया जिनमें से दो को इस आधार पर निलंबित कर दिया गया कि उन्होंने इलाके में लूटपाट की।
दिनांक 5 फरवरी 2013 को बुल़ाना जिले के लोमार कस्बे में साम्प्रदायिक तनाव उत्पन्न हुआ। बहुसंख्यक समुदाय का एक सदस्य अस्पताल में इलाज के दौरान मर गया। पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया। भारी पुलिस बल की तैनाती और तलाशी अभियान के कारण दंगे फैल नहीं सके।
जलगांव जिले की रावेर तहसील के सौदा गांव में 13 जून को दो समुदायों की भीड़ के बीच हिंसा के बाद कफ्र्यू लगाया गया। इस हिंसा में कई मकानों और दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया। सात लोग घायल हुए और बीस को गिरफ्तार किया गया।
मुंबई के अगरीपाड़ा इलाके में 18 अगस्त को साम्प्रदायिक झड़प हुई। शिवसैनिक एक मुस्लिम दुकानदार से गणेशोत्सव के लिए एक खास राशि चंदे के रूप में मांग रहे थे। व्यापारी ने कहा कि उसका धंधा बहुत अच्छा नहीं चल रहा है और वह उतनी राशि देने में असमर्थ है। इसके बाद हिंसा भड़क उठी। स्थिति को नियंत्रण में लाने की कोशिश में दो पुलिसकर्मी घायल हुए।
राजस्थान
राजस्थान के चित्तौड़ग़ जिले के मुस्लिम बहुल सावा गांव में 28 जून को एक सड़क दुर्घटना के बाद हिंसा भड़क उठी। एक व्यक्ति को डंपर द्वारा कुचल दिए जाने के बाद गुस्साई भीड़ ने डंपर में आग लगा दी और मुआवजे की मांग की। खदान मालिकों ने अपने गुंडों की फौज गांव भेजी, जिसने कई दुकानों में आग लगा दी। कुल मिलाकर 34 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें से गांव के सरपंच सहित 22 अल्पसंख्यक समुदाय के थे और 12 बहुसंख्यक समुदाय के। पुलिस के गोलीचालन में एक व्यक्ति घायल हुआ।
प्रदेश के टोंक शहर में 11 जुलाई को जिस समय मुसलमान छावनी जामा मस्जिद में मगरिब की नमाज अदा कर रहे थे, उसी समय निकट के कीर हिन्दू इलाके से एक बारात मस्जिद के सामने से गुजरी। बारात में तेज आवाज में बज रहा डीजे शामिल था। जब बारात कुछ ज्यादा ही देर तक मस्जिद के दरवाजे के सामने रूकी रही तब कुछ लोगों ने यह अनुरोध किया कि वहां डीजे न बजाया जाए। इसके बाद गर्मागर्मी हुई और दोनों तरफ से पत्थरबाजी शुरू हो गई। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित किया। इसके अगले दिन 12 जुलाई को जब मुसलमान उसी मस्जिद में जुमे की नमाज अदा करने इकट्ठा हुए तब वहां भारी पुलिस बल तैनात था। नमाज खत्म होने के बाद लोग शांतिपूर्वक मस्जिद से बाहर निकलने लगे। प्रत्यक्षदिशर्यों के अनुसार सब कुछ शांतिपूर्वक हो रहा था और स्थिति नियंत्रण में थी। लोग अपने घरों की ओर जा रहे थे। तभी अचानक, बिना किसी कारण के, लगभग 150 पुलिसकर्मी बगल में स्थित मदरसे से मस्जिद के पिछले दरवाजे को तोड़कर अंदर घुस आए और वहां इकट्ठा लोगों पर अश्रु गैस के गोले छोड़ने लगे। एक गोला नासिर नाम के युवक के चेहरे पर लगा और उसकी वहीं मौत हो गई। एक अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। उसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दिया और बुजुर्गों सहित सभी लोगों की जमकर पिटाई की। लगभग 80 लोग घायल हुए और दो की मृत्यु हो गई।
-इरफान इंजीनियर

कोई टिप्पणी नहीं: