गुरुवार, 25 अगस्त 2016

भगवा आतंकवादियों की गिरफ्तारी

चुनाव से पहले यूपी को दहलाने की साजिश पुलिस ने गुरुवार को नाकाम कर दी। जन्माष्टमी पर देश को दहलाने की साजिश को यूपी एटीएस और कानपुर क्राइम ब्रांच ने नाकाम कर दिया। एटीएस और कानपुर की क्राइम ब्रांच ने गुरुवार को कानपुर से एक ट्रक विस्फोटक के साथ चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया।एटीएस ने ट्रक से 30 हजार डेटोनेटर, 20 हजार जिलेटीन और छह कुन्तल अमोनियम नाइट्रेट बरामद किया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पुलिस पूछताछ कर रही है। आरोपियों में अंबेडकरनगर का निर्भय मिश्रा, विक्रांत कुमार सिंह पप्पू, ओम नारायण राय और बिहार के सासाराम जिले का पंकज कुमार सिंह शामिल हैं।
  इसके पूर्व  भी डेटोनेटर, जिलेटिन राॅड और अमोनियम नाइट्रेट जैसे विस्फोटक अभी छह जुलाई को कानपुर से एटीएस ने बरामद की थी। यह विस्फोटक कानपुर के जाजमऊ इलाके से लावारिस सेंट्रो गाड़ी में मिली थी। गाड़ी बनारस से चोरी करके लाई गई थी। इसमें एक हजार डेटोनेटर बरामद हुआ था। मामले में चकेरी थाने में रिपोर्ट दर्ज कर शहर पुलिस, क्राइम ब्रांच और यूपी एटीएस अभी जांच ही कर रही थी कि फिर बड़े पैमाने पर विस्फोटक बरामद हो गया। यूपी एटीएस के आर्ईजी असीम अरूण ने इस बात की पुष्टि की। उन्हाेंने बताया कि फिलहाल पकड़े गए युवकाें से पूछताछ की जा रही है। ये किस मकसद से इतनी भारी मात्रा में विस्फोटक ले जा रहे थे इसका भी पता किया जा रहा है।

    चुनाव  जैसे जैसे नजदीक आ रहा है  भगवा तत्व प्रदेश  का माहौल  ख़राब करने के लिए  तरह तरह के हाथ कंडे अपना रहे है  उनकी कोशिश है की किसी तरह    धार्मिक उन्माद   बढ़े और उनका फायदा हो .
सुमन
लो क सं घ र्ष !

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (27-08-2016) को "नाम कृष्ण का" (चर्चा अंक-2447) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Dinesh Mishra ने कहा…

आप तो अत्यंत ज्ञानी कानूनविद अधिवक्ता हैं ! क्या आपके द्वारा कहे गए शब्द 'भगवे' का आशय उन आतंकवादियों के सनातन धर्मी केसरिया ध्वज से सम्बंधित किसी भी हिन्दू संगठन से जुड़े होने से है ? और क्या आपके पास उन आतंकवादियों के भगवा अर्थात सनातन धर्मी केसरिया ध्वज से सम्बंधित किसी भी हिन्दू संगठन से जुड़े होने का कोई प्रमाण है? यदि है तो उसे यहाँ पर प्रस्तुत कीजिये ! अन्यथा इसी साक्ष्य के आधार पर यदि आपके विरुद्ध ऍफ़० आई० आर० हो गयी तो आप न्यायालय में यही जवाब देकर बचने का प्रयास करेगें कि हुजूर ! मेरे भगवा आतंकवादी कहने का आशय सनातन धर्मी केसरिया आतंकवादी न होकर सिर्फ भगोड़ा आतंकवादी ही था|