गुरुवार, 7 मई 2009

स्वर्ग धरती पे उतरा किए


अश्रु नयनो से ढलका किए
छन्द गीत निकला किए

मन सदा ही भटकता रहा-
भंग अधरों से निकला किए

झूठ दर्पण ने बोला नही-
अपने चेहरे ही बदला किए

प्राण संकट में है और वो-
बिखरी अलके संवारा किए

यूं कुचलो मेरी आस्था-
हम तो सपनो में बहला किए

वस्त्र शव का धूमिल हुआ-
जीव काया ही बदला किए

पीर में मन ये जब-जब लगा -
स्वर्ग धरती पे उतरा किए

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

कोई टिप्पणी नहीं: