गुरुवार, 14 मई 2009

तुझसे बेहतर तेरी अदा जाने..


जितना बढ़ चढ़ के आइना जाने॥
हुस्न क्या शै है कोई क्या जाने॥

किस की जुल्फों को छूके आई है-
महकी
महकी हुई हवा जाने

मौत किसको मिली हयात किसे-
तुझसे बेहतर तेरी अदा जाने

ऐश वालो से पूछते क्या हो-
लज्जत गम तो ये गदा जाने

यु तो रहते हो साथ साथ मगर -
कब
बिछड जाए वो खुदा जाने

किस कदर तुमसे प्यार है भगवन -
ये
मेरी अपनी आत्मा जाने

मैं वो ''राही'' हूँ जो फजले खुदा
रास्ता
सिर्फ़ प्यार का जाने


डॉक्टर
यशवीर सिंह चंदेल ''राही''

कोई टिप्पणी नहीं: