मंगलवार, 5 मई 2009

मौन दिखा गई राधा


कोकिल कूकत झरन पै अस बौरत बाग़ वसंत के आए
फूलन
फूलि जगावत प्रभु बजावत साज बसंत के आए
प्रेम पयोधि में डूबे हुए अलि गावत राग वसंत के आए
ऋतुराज
आवत सुनी प्रिय ने तव आवत आज वसंत के आए

बिखरी बिखरी अलको में सजी छवि सुन्दर मौन दिखा गई राधा
अभिराम
हँसी अधरों पे लिए कछु ऐसा ही रंग जमा गई राधा
अंग
प्रत्यंग रंगारस रंग कुछ ऐसा ही रंग जमा गई राधा
आखिन
काजर,काजर कोर से प्रेमवियोग जता गई राधा

स्वारथ को परमारथ को वस श्याम से लागत लगी रहना है
चाहे सायानी अयानी कहो पर प्रेम के रंग रंगी रहना है
मान
गुमान नही कुछ है वस मोहन की ही बनी रहना है
नैनन,वैनन,सेनन सो जो कहानी कही सो धरी रहना

अलि जानो नही यह प्रेम है क्या हम यामैं डूबी की डूबी रहे
मिलने की कबो नहि चाह हमे रस रंग में भीगी रहे
मनमंहि वसे अइसे मोहन है जैसे सीपी के बीची मा मोती रहे
अखियाँ
जब बंद हमारी भई हरी सो गर लागी की लागी रहे

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

कोई टिप्पणी नहीं: