शनिवार, 6 जून 2009

गाती है मेरी कविता


पावन उद्देश्य हमारा
करता है धुतिमय सविता।
चुप निशा उतर आती है,
गाती है मेरी कविता ॥

करूणानिधि की वत्सलता
विस्मृति का वरदान मिला है।
अनवरत तरंगित होती
स्मृति से अंकित समय शिला ॥

मेरी पीड़ा जन्मी है
प्रतिभा की प्रतिमा बनकर
कभी राम सीता बनकर
कभी कृष्ण मीरा बनकर॥

-डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

1 टिप्पणी:

AlbelaKhatri.com ने कहा…

waah waah
waah waah
BADHAI>>>>>>