रविवार, 14 जून 2009

अपना कह दूँ मैं किसको ...


मिलकर भी मिल सका जो ,
मन खोज रहा है उसको।
सव विश्व खलित धाराएं
अपना कह दूँ मैं किसको

याचक नयनो का पानी
अवगुण्ठन में मुसकाता
''कल्याण -रूप , चिर-सुंदर-
तुम सत्य'' यही कह जाता॥

पृथ्वी का आँचल भीगा
तरुनी -लहर ममता में।
निर्दयता की गाथायें
अम्बर -पट की समता में॥

-डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

कोई टिप्पणी नहीं: