शनिवार, 29 अगस्त 2009

छायानट का सम्मोहन...


व्याकुल उद्वेलित लहरें,
पूर्णिमा -उदधि आलिंगन
आवृति नैराश्य विवशता ,
छायानट का सम्मोहन

जगती तेरा सम्मोहन,
युग-युग की व्यथा पुरानी।
यामिनी सिसकती -काया,
सविता की आस पुरानी।

योवन की मधुशाला में,
बाला है पीने वाले।
चिंतन है यही बताता ,
साथी है खाली प्याले

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

2 टिप्‍पणियां:

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

व्याकुल उद्वेलित लहरें,
पूर्णिमा -उदधि आलिंगन ।
आवृति नैराश्य विवशता ,
छायानट का सम्मोहन ॥

जगती तेरा सम्मोहन,
युग-युग की व्यथा पुरानी।
यामिनी सिसकती -काया,
सविता की आस पुरानी।

योवन की मधुशाला में,
बाला है पीने वाले।
चिंतन है यही बताता ,
साथी है खाली प्याले ॥

अति सुन्दर भावों शब्दों से सम्मोहन के सत्य को उजागर करती यह कविता विशेष रूप से प्रेरणादायक है.
हार्दिक आभार.

चन्द्र मोहन गुप्त
www.cmgupta.blogspot.com

विनय ‘नज़र’ ने कहा…

अच्छी रचना है
----
तख़लीक़-ए-नज़र