शनिवार, 23 जनवरी 2010

राज्य की गुंडागर्दी

भारतीय संविधान के अनुसार राज्य कर्मचारियों को अपनी मांगो के समर्थन में हड़ताल का अधिकार है वहीँ काम नहीं तो दाम नहीं के सिधान्त के अनुसार हड़ताल के समय कर्मचारियों की उस दिन का वेतन देने का प्राविधान हैउत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारी शिक्षक अपनी मांगो के लिए लखनऊ में प्रदर्शन कर रहे थे जिसपर उत्तर प्रदेश सरकार के विशेष चहेते जिला मजिस्टे्ट अमित घोष ने लाठियां गोलियां चलवायीं डी.आई.जी लखनऊ ने निहत्थी महिलाओं को लाठियों से पीटासरकारी कार्यालयों में घुस कर गैर हडताली कर्मचारियों को भी पीटा गयाकल दिनांक 22-01-2010 को राजधानी के प्रमुख सरकारी अस्पताल बलरामपुर हॉस्पिटल में पुलिस और पी.एस.सी, हड़ताल खत्म कराने के नाम पर मरीजों तथा कर्मचारियों के ऊपर अकारण लाठीचार्ज कर दिया अस्पताल के आसपास के राहगीरों को भी पीटा गयारात में पुलिस अधिकारियों के नेतृत्व में कर्मचारी नेताओं के घरों में घुसकर उनके बीबी और बच्चो की राजाइयाँ डंडो से फेंक कर उनके पतियों का सुराग मालूम करने का प्रयास जारी रहाकर्मचारियों की पत्नियां बच्चे राज्य के नौकर नहीं हैं। महिलाओं व बच्चों को राज्य सरकार द्वारा प्रताड़ित करने का कोई औचित्य नहीं है। उनके साथ इस तरह की अभद्रता करना सीधे-सीधे राज्य की गुंडागर्दी है और यह भी एक गंभीर अपराध है
लखनऊ के जिला मजिस्टे्ट अमित घोष उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती को खुश करने के लिए कृषि विभाग के एक कर्मचारी को तीन थप्पड़ मारेडी.आई.जी पुलिस जिला मजिस्टे्ट अमित घोष पागलपन की सीमा से बढ़ कर आतंक का राज पैदा कर रहे हैंराज्य द्वारा किये गए अपराधों के लिए कोई कानून नहीं है ?

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

3 टिप्‍पणियां:

Arvind Mishra ने कहा…

"जिला मजिस्टे्ट अमित घोष उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती को खुश करने के लिए कृषि विभाग के एक कर्मचारी को तीन थप्पड़ मारे"

बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है जो चीख चीख कर कह रही है की ब्यूरोक्रेसी की रीढ़ उत्तर प्रदेश में टूट चुकी है और उच्च पदस्थ अधिकारी जिनसे व्यवस्था बनाने की अपेक्षा होती है वे भी अपनी सारी नैतिकता टाक पर रखकर सत्ता का चरण चुम्बन्न कर रहे हैं -एक विवेकहीन हो चुके अधिकारी से आप और क्या उम्मीद कर सकते हैं -मौजूदा क़ानून के तहत उस पर कार्यवाही होनी चाहिए -और कडा दंड मिला चाहिए तब जाकरआंदोलित कर्मचारियों का विश्वास इस व्यवस्था में पुन्रास्थापित हो पायेगा जो तार तार हो गया है ! आश्चर्य हैलाट साहब अभी भी कुर्सी पर विद्यमान हैं !

Dr. Amar Jyoti ने कहा…

नागार्जुन याद आ गये:-
'तानाशाही तामझाम है लोकतन्त्र का नारा'

विजय प्रताप ने कहा…

खुलेआम गुंडागर्दी है.