शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

डी.आई.जी पुलिस की जवाँमर्दगी

राजधानी लखनऊ में प्रदेश के राज्य कर्मचारी शिक्षक अपनी मांगो के लिए प्रदर्शन कर रहे थे जिसपर लखनऊ पुलिस ने बर्बरतापूर्वक लाठियां गोलियां चलायीं, सरकारी कार्यालयों में घुसकर लोगों को पीटा गयाडी.आई.जी लखनऊ को जवाँमर्दगी दिखाने के लिए नहीं मिला तो वह निहत्थी महिलाओं के ऊपर लाठियां चलाने लगे पुलिस ने अनावश्यक रूप से राज्य कर्मचारियों शिक्षकों पर लाठीचार्ज किया आंसू गैस के गोले छोड़े हवाई फायरिंग कीजवाहर भवन इंदिरा भवन सहित दर्जनों सरकारी कार्यालयों में घुसकर लाठी चार्ज किया
शांतिपूर्ण कर्मचारी शिक्षकों के ऊपर प्रशासन द्वारा लाठीचार्ज उनके बब्बर चरित्र को दर्शाता हैराजधानी में निहत्थी महिलाओं के ऊपर बेशर्मी के साथ लाठीचार्ज करना यह बताता है कि पुलिस का माननीय उच्चतम न्यालय के दिशानिर्देश कानून संविधान में कोई यकीन नहीं हैयह सब ब्रिटिश युग के गुलाम मानसिकता वाले सरकारी तंत्र हैंऊँचे ओहदों पर बैठे हुए लोग अपने को सर्वशक्तिमान समझते हैं वह यह समझते हैं कि उनका कोई कुछ नहीं कर सकता है इसीलिए डी.आई.जी पुलिस लखनऊ को जब पीटने के लिए कोई नहीं दिखा तो वह औरतों पर अपने हाथ में लाठी लेकर मार पीट करने लगेप्रशासन ने समझदारी से कार्य लिया होता तो राज्य कर्मचारियों शिक्षकों के ऊपर लाठी चार्ज करने की कोई आवश्यकता नहीं थीआज जरूरत इस बात की है कि प्रशासन के ऊपर ऊँचे ओहदे पर नियुक्त बीमार मानसिकता वाले लोगो की छँटनी की जाए

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

2 टिप्‍पणियां:

Babli ने कहा…

आपको और आपके परिवार को वसंत पंचमी और सरस्वती पूजन की हार्दिक शुभकामनायें!
बहुत सुन्दर!

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

सुमन जी आदाब
हमेशा लोक शंघर्ष के ज़रिये आप जिन मुद्दों को सामने लातें है वो समाज से जुड़े होते हैं मुझे अफ़सोस है की मै टिप्पड़ी नहीं कर पता लेकिन हमेशा आप के लेखों से प्रभावित रहता हूँ यहाँ जो बातें आपने कहीं वो आज हर सरकार कर रही है चाहे वो राज्य सरकारें हो या देश की सरकार वो नागरिक कानूनों को ताख पर रख कर जो चाहें करें और हम एक जुट होकर विरोध करें तो कानून व्यवस्था बिगड़ने लगती है अब रहा सवाल लाठी चार्ज का या आंसू गैस के गोले दागने का तो जानवरों को चाहे डंडी से मरो या लाठी से उनके दर्द का एहसास तो किसी को होने से रहा और महिलाओं को तो तनिक भी चिंता नहीं करनी चाहिए बहन जी है न .......फिर वही चुनाव के वक़्त अपनी राग अपने तर्क .......?

आपका हमवतन भाई गुफरान सिद्दीकी (अवध पीपुल्स फोरम अयोध्या फैजाबाद)