सोमवार, 1 फ़रवरी 2010

मौका मिला तो कफ़न नोच लेंगे

image source: google search

साम्राज्यवादी मुल्कों ने दुनिया के काफी देशों को लूटा है खसोटा है छोटे से देश हैती को इस कदर साम्राज्यवादियों ने वहां की प्राकृतिक सम्पदा का दोहन किया है कि पर्यावरण पारिस्थितकी की व्यवस्था ही डगमगा गयी और भयंकर भूकंप आया लाखों लोग मारे गए अनाथ बच्चों की तादाद कई हजारों में हो गयी अब साम्राज्यवादियों के एक गिरोह को हैती पुलिस ने पकड़ा है जिसके पास से 33 बच्चे बरामद हुए हैं इन बच्चों को डामिनिकन रिपब्लिक ले जाया जा रहा थामानव तस्कर हैती में जगह जगह राहत और बचाव के बहाने कैम्प लगाये हुए हैं जो मानव संसाधन की तस्करी भी कर रहे हैं
ब्रिटिश साम्राज्यवाद का जब सूरज अस्त नहीं होता था तो वह गुलाम देशों से आदमियों को ले जा कर कमर के नीचे गरम लोहे से नंबर डाल कर छोटे-छोटे मुल्कों में खेती करवाते थेयूरोप की समृद्धि का राज भी यह है कि मानव को गुलाम बना कर उनकी श्रम शक्ति से अपने वहां कार्य करना ही था उसके एवज में कोई भुगतान नहीं था। आज जब दुनिया हैती के भूकंप पीड़ितों की मदद कर रही है तो साम्राज्यवादी देशों के एजेंट मदद के बहाने अनाथ बच्चों की तस्करी में लगे हुए हैं साम्राज्यवाद जिसका मुख्य उद्देश्य मुनाफा है मुनाफे के लिए वह हमेशा कफ़न तक नोच लेते हैं

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

1 टिप्पणी:

mark rai ने कहा…

bahut hi dukhad ghatna ..is wakt ham sabko ekjut ho madad karna chahiye...