मंगलवार, 2 फ़रवरी 2010

संघ व शिवसेना की नूराकुस्ती

image source: google
महाराष्ट्र में शिवसेना मनसे अपने राजनीतिक आधार को बनाये रखने के लिए अपनी विघटनकारी विचारधारा का प्रयोग कर रही हैइस खे में अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेसी सरकार का भी नैतिक समर्थन मनसे शिवसेना को प्राप्त है अन्यथा मनसे शिवसेना की कोई हैसियत नहीं है कि वह भारतीय संघ से युद्ध करके रह सकेमहाराष्ट्र का आम आदमी भी इन विवादों से दूर है लेकिन कांग्रेस सरकार इन विघटनकारी तत्वों के खिलाफ कोई विधिक कार्यवाही करके इन तत्वों को बढ़ावा दे रही हैसंघ परिवार ने हमेशा दोहरा चरित्र अपनाया हैएक तरफ शिव सेना के हिंदुत्ववादी रुख को समर्थन देती रहती है दूसरी तरफ नए मुखौटे के साथ उत्तर भारतियों को संरक्षण देनी की बात कर रही हैयह क्या संरक्षण देंगे ? भारतीय संघ अगर संरक्षण नहीं दे सकता है तो विघटनकारी तत्वों के संरक्षण संघ परिवार आम आदमी को कैसे संरक्षण दे सकते हैंसंघ के बयान का उद्देश्य सिर्फ इतना है कि उत्तर भारत में उनके जनाधार को धक्का लगेइससे पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिव राज सिंह चौहान ने घोषणा की थी कि मध्य प्रदेश में दूसरे प्रान्तों के लोग कल कारखानों में कार्य नहीं कर सकते हैं जिस पर व्यापक प्रतिक्रिया हुई और अंत में उनको अपना बयान वापस लेना पड़ाभाषाई विवाद, प्रांतीयता का विवाद हिन्दू मुसलमान, सिख ईसाई का विवाद खड़ा करके संघ परिवार इस देश की एकता और अखंडता को तार-तार कर देना चाहता है
ऑस्ट्रेलिया, फिनलैंड व इंग्लैंड सहित कई मुल्कों में वहां के नस्लवादी व विघटनकारी विचारधारा के लोग भारतीयों का विरोध कर रहे हैं वहीँ महाराष्ट्र में उन्ही कि विचारधारा से ओतप्रोत लोग उत्तर भारतीयों का विरोधी कर रहे हैं। यह संकट साम्राज्यवाद का संकट है। उत्तर भारतीय विवाद में संघ परिवार तो शिवसेना से अपने सम्बन्ध ख़त्म करने जा रहा हैअघोषित रूप से उनके सम्बन्ध आज भी बरकरार हैं और आने वाले दिनों के चुनाव में उनके गठजोड़ होने हैंयह नूराकुस्ती मात्र दिखावा है और कुछ नहीं

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

4 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

यह नूराकुस्ती मात्र दिखावा है और कुछ नहीं।

bilkul sahi kaha aapne suman ji....

KAVITA RAWAT ने कहा…

In logon ke paas rajniti karne ke liye koi mudda shayad kuch bacha hi nahi hai, Pahale Bhai-bhatijavaad par utaru hoti hain or ab bhashavaad, kshetriyavaad..
Bahut achhi baat kahi hai aapne jab hamare hi desh mein aise sankirn mansikta ke log hain to foreign ko kaun samjha sakega.
Bahut shubhkamnayne.

हास्यफुहार ने कहा…

अच्छा आलेख।

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

विघटनकारियों को कानून कब देखेगा ! क्या देखने लायक बचा भी रहेगा, यह उससे भी बड़ा सवाल है.