गुरुवार, 18 मार्च 2010

उत्तर प्रदेश में लोकतंत्र कामयाब हुआ

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था के स्तिथि अति गंभीर हैकोंट्रैक्ट किलर नीरज सिंह को जब जौनपुर पैसेंज़र से लेजाया जा रहा था तो कुछ हमलावरों ने उन दोनों सिपाहियों की हत्या कर अपराधी को छुड़ा कर लेकर चले गएबरेली में अभी तक कर्फ्यू चल रहा थाआए दिन हत्याएं लूटपाट का दौर जारी है एक तरफ पुलिस थानों मेंसिपाही उपनिरीक्षकों की संख्या मानक से अत्यधिक कम है और इन पुलिस कर्मियों का अधिकांश समयसत्तारूढ़ दल के नेताओं के जलूस प्रदर्शन को कामयाब करने में लगा रहता हैपुलिस के उच्च अधिकारीयों कीकार्यप्रणाली विधिक होने के कारण अफरातफरी का महल रहता है गंभीर अपराधों की विवेचना थाने में बैठकरहो जाती है। अंतर्गत धरा 161 सी.आर.पी.सी के बयान थाने पुलिस उपाधीक्षक के कार्यालयों में ही हो जाती है
उच्च अधिकारीयों को मीडिया में छाए रहने के लिए कुछ गुडवर्क चाहिए उसके लिएसुनियोजित तरीके से गुडवर्क की भूमिका तैयार की जाती है अपराध के खुलासे में असली अपराधी को पकड़ कर किसी किसी नवयुवक मार पीट कर अपराधी घोषित कर दिया जाता है। बरेली दंगो के दौरान डॉक्टर तौकीर रजा धर्मनिरपेक्ष व्यक्तियों की गिरफ्तारी कर पुलिस प्रशासन ने अपनी योग्यता का परिचय दिया था और दंगे को भड़काने में मदद की, किन्तु आखिर में मजबूरन डॉक्टर तौकीर रजा को बिना शर्त रिहा करना पड़ापूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था को बनाए रखने केसन्दर्भ में पुलिस के उच्च अधिकारी नाकामयाब हो रहे हैं और पिछले एक माह से लखनऊ में आयोजित रैली केलिए वाहनों की व्यवस्था करने में लगे रहे हैंवाहन स्वामियों से जबदस्ती रैली के लिए वाहन लिए गए थे पूरे प्रदेश में रैली को कामयाब बनाने के लिए जबरदस्त वसूली की गयी थी तब जाकर उत्तर प्रदेश में लोकतंत्रकामयाब हुआ था ?

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

4 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

UTTAR PARDESH KI KANOON VAIVASTHA HAMESH HI GAMBHIR BANI REHTI HAI
YE KABHI NAHI SUDHREGI...

संजय भास्कर ने कहा…

उच्च अधिकारीयों को मीडिया में छाए रहने के लिए कुछ गुडवर्क चाहिए उसके लिएसुनियोजित तरीके से गुडवर्क की भूमिका तैयार की जाती है अपराध के खुलासे में असली अपराधी को न पकड़ कर किसी न किसी नवयुवक मार पीट कर अपराधी घोषित कर दिया जाता है
BILKUL SAHI KAHA HAI

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति!!!

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Aapke lekh hamesha achchhe rahte hain.. is soch ko har koi dil me utar kar kuchh kar gujre to kitna chchha ho.. haay ye sarkar