गुरुवार, 10 जून 2010

आर्थिक जीवन और अहिंसा -3

मानवीय प्रगति का लम्बा इतिहास काफी अंशों तक और कई अर्थों में स्वैच्छिक एवं स्वतंत्र वरण-चयन के प्रयासों का इतिहास हैं। फलतः ऐसे सहज स्वतंत्र सामाजिक जीवन को सर्व-संगत, सर्व-सुलभ, जन-जन का अमिट और अक्षुण्य अधिकार माना जा सकता है। अधिकार के रूप में प्राप्ति को ठोस सच्चाई में बदलने के अनेक उतारांे-चढ़ाओं का इतिहास अहिंसा के प्रसार का इतिहास माना जा सकता है। मनुष्य जैसे सामाजिक जीव के बहुआयामी अस्तित्व का कोई भी भाग जिसे विचारण विवेचन की सुगमता के लिए कुछ अशों तक अलग-अलग करके देखने की परिपाटी बहुप्रचलित हो चुकी है। यहाँ तक कि अनेक लोग इस पृथकीकरण को यथार्थ का प्रतिविम्ब तक मान बैठते हैं। एक ओर स्वैच्छिक-स्वतंत्र वरण की गई तथा दूसरी ओर इनको कुचल-मसल कर आरोपित बलात् या जबरन थोपी गई जीवन-यात्रा के संघर्ष से अछूता नहीं रह पाता हैं। यह हिंसा प्रतिहिंसा और अहिंसा का संघर्ष आदिकाल से मानवीय-सामाजिक जीवन और उसकी व्यवस्था में पग-पग पर परिलक्षित होता आया है। बेशक, इन्सान वर्तमान समय की असंख्य विसंगतियों विद्रूपताओं और त्रासदियों के उपरान्त भी अनेक अर्थों में एक गौरव पूर्ण और निहित संभावनाओं को सृजनात्मक साकार रूप रंग वाली क्षमताओं और ठोस उपलब्धियों में विश्वास रख सकता है। मानव समाज प्राप्त क्षमताओं और संसाधनों के स्तर पर एक समता, न्याय, अहिंसा और भाई चारे को ठोस यथार्थ में परिणत कर संभावना के एक अभूतपूर्व ऊँचे मुकाम पर पहुँच चुका है।
मानव जीवन का शायद ही कोई अंग इस प्रगति मंे भागीदार नहीं हो पाया हो। किन्तु यह कोई सर्वत्र पुष्पाच्छादित मधुर और सुवासित यात्रा पथ नहीं रहा है। इसमें काँटे, शूल, चुभन ही नहीं पसीने, आँसुओं, खून और घृणित-जघन्य प्रवृत्तियों और वारदातों का सिलसिला भी कहीं आशीर्वाद तो कहीं अभिशाप बनकर बदस्तूर चला है। विडम्बना यह है कि इन नकारात्मकताओं, विचलनों और गिरावटों को समझा गया है, इनसे लड़ा और जूझा भी गया है और ये संघर्ष अनवरत चल भी रहे हैं। इन गिरावटों और नकारात्मक प्रवृत्तियों को हिंसा की प्रबलता और उसके दुष्परिणामों के रूप में देखा जा सकता है। इनसे बचकर सकारात्मक सात्विकता की ओर बढ़ने के प्रयास अहिंसा अथवा स्वतंत्रता, स्वैच्छिकता के सामूहिक सामाजिक स्वरूप को सर्वव्यापी करने के प्रयासों की तरह समझे जा सकते हैं।
सच है कि ये स्वैच्छिकता, स्वतंत्रता, अहिंसामय समाज-निर्माण की ओर प्रयाण के प्रयास सामाजिक मानवीय अस्तित्व और उसे अक्षुण्य तथा अर्थवान बनाने के अभियान एक हद तक प्रयास में सक्रिय हैं। लेकिन हम यहाँ संक्षेप में उसे आर्थिक अर्थात जीवन यापन की मुख्यतः भौतिक जरूरतों और उनसे जुड़े मानवीय-सामाजिक सम्बन्धों तक ही सीमित रखेंगे।

-कमल नयन काबरा
-मोबाइल: 09868204457
(समाप्त)

कोई टिप्पणी नहीं: