गुरुवार, 19 अगस्त 2010

राहुल गाँधी देश क्या संभालोगे पहले कॉमन वेल्थ खेलता भ्रष्टाचार देखो

नेशनल थर्मल पॉवर कार्पोरेशन ने राष्ट्रमंडल खेलों के प्रयोजन के लिए 50 करोड़ रुपये देने का समझौता किया था किन्तु आयोजन समिति के भ्रष्टाचारों को देख कर उसने बाकी 30 करोड़ रुपये देने से मना कर दिया और 20 करोड़ रुपये अग्रिम भुगतान का हिसाब माँगा हैएन.पी.टी.सी की मंशा यह थी कि वह राष्ट्रमंडल खेलों का प्रयोजन कर कॉमन वेल्थ के देशों में अपने कारोबार को बढ़ाये लेकिन कॉमन वेल्थ गेम्स केंद्र सरकार के नेताओं के भ्रष्टाचार का ब्रांड बन गया है और सत्तारूढ़ दल कांग्रेस जिस के नेता अपने को युवा ह्रदय सम्राट समझने वाले राहुल गाँधी भी हैं, उनके ऊपर भी असर पड़ेगा क्योंकि केंद्र सरकार के भ्रष्टाचारों के बारे में राहुल गाँधी कुछ भी कहने में असमर्थ हैंअंकुश लगाना तो दूर की बात हैसारे भ्रष्टाचारी मिल कर उनकी इमेज़ को रुपयों के बल पर चमकाने का कार्य तो किया ही जाता हैकेंद्र सरकार पर राहुल गाँधी के किचेन कैबिनेट के लोग काबिज हैं
राष्ट्रकुल खेलों में कांग्रेसी नेताओं के भ्रष्टाचार के तहत पॉवर ग्रिड कार्पोरेशन ने भी 10 करोड़ देने से मना किया है तो वहीँ रेलवे भी उहापोह में है कि वह क्या करेहद तो यहाँ तक हो गयी है कि कॉमन वेल्थ गेम्स फेड़रेशन के अध्यक्ष माइक फेनेल ने जब आयोजन स्थलों का दौरा किया तो आयोजन स्थल पर आवारा कुत्ते घूम रहे थे

सुमन
लो क सं घ र्ष !

1 टिप्पणी:

हास्यफुहार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।