शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रों की समस्याओं का तुरंत निराकरण करो



२१ अक्टूबर 2010 को नयी दुनिया में प्रकाशित खबर
दिल्ली में छात्रों को डी.टी.सी बसों से यात्रा करने के लिए आन्दोलन का सहारा लेना पड़ रहा है जबकि दिल्ली सरकार को अविलम्ब छात्रों की सुविधा के लिए बसों की व्यवस्था करनी चाहिएदिल्ली में पूरे देश के नौजवान अध्ययन हेतु जाते हेंसरकार की पहली प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि उन छात्रों को अध्ययन हेतु समस्त सुविधाएं उपलब्ध कराएं लेकिन दिल्ली परिवहन के अधिकारी श्री कसाना ने हिटलरी अंदाज में बसें चलाने के लिए मना कर दिया जबकि केंद्र सरकार दिल्ली राज्य सरकार ने लगभग 70 हजार करोड़ रुपये से अधिक रुपया राष्ट्रमंडल खेलों के लिए खर्च कियाउसमें हजारों हजार करोड़ रुपये नेताओं और अधिकारियों की जेब में लूट खसोट कर के चला गया लेकिन छात्रों को सुविधा देने में भ्रष्टाचार या आर्थिक मुनाफा कम होना है इसलिए ऐसे जवाब अधिकारियों द्वारा दिए जा रहे हेंदिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति की नैतिक जिम्मेदारी है कि वह अविलम्ब दिल्ली परिवहन के अधिकारियों से बातचीत कर परिवहन सुविधाएं उपलब्ध कराएंदिल्ली में जाकर अध्ययन करने वाले छात्रों में काफी छात्र सामान्य माध्यम वर्गीय घरों के होते हें जो अपनी भूख और प्यास पर काबू कर अध्ययन कार्य करते हैंइन्ही छात्रों की प्रतिभों से नए भारत का निर्माण होना हैभ्रष्टाचारियों लूट-खसोट मचाने वाले लोगों से नहींलोकसंघर्ष परिवार को पूर्ण विश्वास है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति महोदय अविलम्ब इस समस्या का निदान कराएँगे

सुमन
लो क सं घ र्ष !

1 टिप्पणी:

Sunita Sharma ने कहा…

सुमन जी आपने अपने ब्लाग में इस खबर को जगह दे बहुत सही मुद्दा उठाया छात्रों को अगर यह सुविधा मिले तो तो शिक्षाप्रप्ति के लिए प्रयासरत छात्रो की सरकार मददगार हो सकती है।