बुधवार, 15 दिसंबर 2010

वे आए तो हमने सिर पे बैठाला हम गए तो लतियाया ......


हरदीप पूरी मीरा शंकर

वे आए तो हमने सर पे बैठाला हम गए तो लतियाया इसी तर्ज पर अमेरिका हमारे देश से व्यवहार कर रहा है। क्या हमारा स्वभाव बन गया है, कि हम उनके लतियाने को भी अपना अहो भाग्य समझें और उलट कर उनके पैर की मालिश करने लगे कि सरकार चोट तो नहीं लगी।
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा भारत की यात्रा पर आये अपने सुरक्षा गार्डों तथा सैन्य अधिकारीयों के साथ हमारे देश ने उनका स्वागत किया, स्वागत गीत गाये। प्रिंट मीडिया से लेकर इलेक्ट्रोनिक मीडिया तक उनकी हर एक अदा को प्रमुखता से प्रचारित व प्रसारित किया वहीँ जब हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी जी गए तो उनके ऊपर अमेरिकी राष्ट्रपति ने शराब गिरा दी थी। रक्षा मंत्री जार्ज फर्नांडीज जब अमेरिका की यात्रा पर गए तो डलास एअरपोर्ट पर उनकी जामा तलाशी ली गयी और 2003 में रक्षा मंत्री जब ब्राजील जा रहे थे तब भी उनकी तलाशी ली गयी थी और हम आह भी नहीं कर पाए।
अभी संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के अस्थायी प्रतिनिधि शीर्ष राजनयिक हरदीप पूरी की ह्यूस्टन एअरपोर्ट पर पगड़ी की तलाशी देने के लिए कहा गया। तलाशी न देने पर उनके साथ बदसलूकी की गयी और एक कमरे में अघोषित रूप से कैद कर लिया गया। उनको तब रिहा किया गया जब उनके साथ चल रहे टी.एस.ए अधिकारीयों ने दखल दिया और अभी हाल में अमेरिका में भारत की राजदूत मीरा शंकर की अपमानजनक तरीके से तलाशी ली गयी इन दोनों घटनाओ में हम सिर्फ विरोध दर्ज करा कर रह गए। इसके पूर्व भी भारत के नागरिक उड्डयन मंत्री श्री प्रफुल्ल पटेल से शिकागो के एअरपोर्ट पर बदतमीजी पूर्ण तरीके से पूछताछ की गयी थी।
हमारे देश का इलेक्ट्रोनिक व प्रिंट मीडिया ऐसी घटनाओ पर ख़ामोशी अख्तियार कर लेता है लेकिन अगर यही हरकत चीन या किसी एशियाई मुल्क में हुई होती तो पूरे देश में उस देश के खिलाफ प्रचार अभियान चल रहा होता। आखिर इस चुप्पी का राज क्या है ?

सुमन
लो क सं घ र्ष !

4 टिप्‍पणियां:

Dr. Manish Kumar ने कहा…

No, अपनी औकात में रहो. या फिर कबीर की बाणी के साथ, "जो घर जारे आपना चले हमारे साथ" . . . I am also a blogger . . . My full address and communication address is available, some one should organise . . . or let me organise . . . let all of us . . . who ever has a spine . . . meet on LAAL KILAA लाल किला on 14th august Sunday with tricolour (15th august is a monday I dont hjave time as well as many people will not have time except the politician and brokers . . . lets decide what to do?

'उदय' ने कहा…

... gambheer maslaa !!!

राज भाटिय़ा ने कहा…

आज भी हम दिमागी तॊर पर गुलाम हे इस से ज्यादा ओर क्या सबूत चाहिये, आप के यहां टिपण्णी देने मै कठनाई होती हे कृप्या टिपण्णी बक्स बदले. धन्यवाद

नीरज जाट जी ने कहा…

nice