मंगलवार, 14 दिसंबर 2010

भारत के तीन बड़े झूठ




एयरलाईन खोलने के लिए मुझसे रिश्वत मांगी गयीमेरे एक मित्र ने कहा कि इस व्यवसाय में आना चाहते हो तो दे दो 15 करोड़ की रिश्वतलेकिन मैंने उन्हें मना करते हुए कहा कि अगर मैं रिश्वत दे दूंगा, तो मुझे नींद नहीं आएगी
- रतन टाटा ( चेयरमैन, टाटा संस )

टाटा जी का पूरा साम्राज्य घूस देने पर ही टिका हुआ है तमाम टैक्सों की चोरी से लेकर नौकरशाही को उपहार देकर भ्रष्ट बनाने का कार्य आपका आर्थिक साम्राज्य करता है। अमेरिका की ओबामा की पार्टी से लेकर भारत में कांग्रेस भाजपा तक प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से चंदा रूपी आप घूस देते हैं और उसी घूस के तहत तमाम सारे अपराधों से मुक्ति पाते हैं। यदि ईमानदारी से विभिन्न मामलों की जांच करा ली जाये तो आप पर हजारो आर्थिक मुकदमें होंगे। जिसमें कई जन्मो की सजा हो सकती है लेकिन तुलसीदास जी लिख गए हैं - समरत को नहि दोष गोसाईं॥

यह सच है कि व्यावसायिक कम्पनियां रिश्वत देकर अपना काम करवा रही हैंलेकिन उन्हें काम करवाने के लिए रिश्वत नहीं देनी चाहिएआम आदमी की तुलना में उनके लिए यह ज्यादा आसान होगा
-राहुल बजाज ( सांसद एवं चेयरमैन, बजाज ग्रुप)


भ्रष्टाचारियों का उपदेश है यह आप के आर्थिक साम्राज्य को किसी समय में कांग्रेस का भरपूर समर्थन प्राप्त था। बीच में भारतीय जनता पार्टी की सरकार का भी अपूर्व समर्थन प्राप्त था जिसके कारण नियमो उपनियमो की धज्जियां उड़ा कर साम्राज्य खड़ा हुआ है। कौन सा कार्य आप के आर्थिक साम्राज्य में नहीं होता है।

देश की सबसे बड़ी समस्या भ्रष्टाचार हैदेश से यह दूर हो जाएगा तो सारी समस्याएं हल हो जायेंगीभ्रष्टाचार राजनितिक समस्या है की सामाजिक समस्या
-बाबा रामदेव ( योग गुरु व पतंजलि के संस्थापक )

यह भ्रष्टाचारी उवाच है आप आयुर्वेदिक दवाओं के निर्माता व्यापारी हैं। दवाओं में मानव हड्डियों का इस्तेमाल करते थे। बवाल होने पर बड़ी सफाई दी। उस समय इनके द्वारा उत्पादित दवाओं में लेबेल के ऊपर उसमें इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री का वर्णन नहीं होता था। इनका औषधि व्यापार भ्रष्टाचार रहित है यह बात उसी तरीके से सत्य है जिस तरीके से रात को सूरज निकला था।
वर्तमान समय में भारत के ये तीन बड़े झूठ हैं।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

3 टिप्‍पणियां:

'उदय' ने कहा…

... bahut khoob ... shaandaar post !!!

बेनामी ने कहा…

Vaise to har aadmi me kuch na kuch kharabi hoti hai. par agar acchaiyon ko dekha jaye to mujhe Ratan Tata aur Baba Ramdev ji baki sabse bahut upar aur sammaniy hain. inhone samaj ke liye jitna kuch kiya hai wah ek mil ka patthar hai.
Jab sidhi ungali se gee nahin nikalti to ungali tedi karni hi padti hai.
Abhi hame Chanky jaise aadmi ki jarurat hai. aur baba Ramdev wartmaan Chanky ka roop hain.
Roshani

Ghulam Kundanam ने कहा…

राजनीती को, घाटे का सौदा, जब तक नहीं बनाया जायेगा, यह सब चलता ही रहेगा, राजनीती में अपराधी, लालची, भ्रष्टाचारी आते ही रहेंगे.