रविवार, 12 जून 2011

नेता रामदेव यादव पस्त : मक्कड़ योग भी काम न आया

नेता रामदेव यादव

भ्रष्टाचार समाप्त करने के मुद्दे को लेकर नेता रामदेव यादव ने भूख हड़ताल शुरू कर दी थी। बगैर यह समझे बुझे की भूख हड़ताल करने के लिये सिर्फ योगी होना ही आवश्यक नहीं है। उसमें महायोगी के गुण होना भी आवश्यक है। नेता रामदेव यादव ने रामलीला मैदान में पुलिस को देखते ही भीगी बिल्ली की भांति भागकर औरतों के झुण्ड में शामिल होकर उनकी ही पोशाक को धारण कर लिया था। भूख हड़ताल में भूख हडताली मात्र पानी व नीम्बू का ग्रहण कर सकता है किन्तु नेता रामदेव यादव ने शहद जैसे सम्पूर्ण भोजन को भी ग्रहण करना स्वीकार कर लिया था। जैसे दूध आप पीते रहे और कहे कि हम भूख हड़ताल पर हैं तो दूध भी सम्पूर्ण भोजन है और दूध पी लेने के बाद किसी अन्य भोजन की आवश्यकता नहीं रह जाती है। 6 दिन की भूख हड़ताल में नेता जी की योगी जैसी काया भोगी जैसी काया में परिवर्तित हो गयी। अस्पताल में नेता जी को भर्ती होना पड़ा। ग्लूकोज चढ़ाया जाने लगा। ग्लूकोज भी सम्पूर्ण भोजन है ग्लूकोज चढ़ने के बाद सम्बंधित व्यक्ति को किसी भी भोजन की आवश्यकता नहीं रह जाती है।
नेता रामदेव यादव जी आप मक्कड़ योग के स्वामी हो सकते हैं भूख हडताली नहीं। भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे पर भूख हड़ताल कर आप अपने कद को बढ़ाना चाहते थे किन्तु शारीरिक काया ने आपका साथ नहीं दिया और आपकी योगी की छवि भी धूमिल हुई है। सरकार ने जैसे ही पतंजलि योग पीठ की तथा नेता रामदेव जी आपकी कंपनियों की जांच शुरू कर दी वैसे ही देश की जनता को लगने लगा था कि आप भ्रष्टाचार के खिलाफ मुद्दे से भागने वाले हैं और रविशंकर का बहाना लेकर आपने भूख हड़ताल खत्म कर दी।
हमारे छात्र जीवन उत्तर प्रदेश विधान सभा के सामने दारुलसफा का गेट कोप भवन के रूप में जाना जाता था। वहां बहुत सारे मक्कड़ योगी अपनी मांगों के लिये भूख हड़ताल करते रहते थे और जब उनके स्वास्थ्य की जांच होती थी तो भूख हड़ताल के बावजूद उनका वजन बढ़ जाता था। हाँ कुछ लोग जो महायोगी होते थे वह वास्तव ,में भूख हड़ताल करते थे और लगभग दस दिनों में उनका वजन काफी गिर जाता था और पेशाब में किटोन नामक पदार्थ आने लगता था तब सरकार समर्थकों पर डंडेबाजी कर भूख हडताली को अस्पताल ले जाती थी। वहां पर भूख हडताली ग्लूकोज चढ़वाने से मन कर देता था तो कोई भी डॉक्टर जबरदस्ती ग्लूकोज नहीं चढ़ाता था तब पुलिस अंतर्गत धरा 309 आइ.पी.सी वाद की प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखकर तुरंत न्यायलय में पेश कर जेल रवाना कर देती थी और वहां पर जेल का डॉक्टर भूख हडताली की जीवन रक्षा हेतु जबरदस्ती ग्लूकोज चढ़ाता था किन्तु आप जैसे डरे, सहमें, बेबस, भूख हडताली के साथ ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। हमारे समय के भूख हडताली न पुलिस से डरते थे, न अस्पताल वालों से डरते थे और न जेल में ही किसी से डरते थे कई बार जेल में भी लाठी चार्ज हो जाता था। भारत सरकार के सलाहकार भ्रष्टाचार या रिश्वत को वैध बनाने के लिये प्रयासरत है क्योंकि वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु रिश्वत को वैध बनाने के लिये बहस चला रहे हैं और इस सम्बन्ध में उन्होंने सरकारी पोर्टल पर आलेख लिखे हैं।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

10 टिप्‍पणियां:

Dr. shyam gupta ने कहा…

अरे मूर्खो ...डाक्टरों की भी सुनो उनका कहना है कि ग्लूकोज पर अधिक दिन नहीं चलापायेंगे......किस गधे ने कह दिया ग्लूकोज पूर्ण भोजन है....

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

suman ji thori paripakvta ka parichay de yaise lekh aap kiumr ko sobha nahi deta ,,,,,
virodh achhi baat hai ,,, magar vo thyyatmak aur shaleen ho na chiye mai to bus yahi kahunga ki ya to aap ki umr kam hai ya fir umr ke anupaat me akl kam hai

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

नाइस!

शैली ने कहा…

एक और मूर्खतापूर्ण लेख लिए शुभकामनाएं...

रवि कुमार ने कहा…

बेहतर...

निर्मला कपिला ने कहा…

चलो अच्छा हुया इस अनुलोम विलोम से बाबा का चेहरा तो सामने आया अभी तो ट्रस्टों की दौलत ही सामने आयी है कम्पनिओं का सच सामने आने दो फिर देखना बाबा को कपालभाती करते हुये। बढिया लिखा है।

डा० अमर कुमार ने कहा…

nice

Arunesh c dave ने कहा…

हा हा हा गलत तरीके से लिखी गयी सही बात सोच मे तो मै भी हूं बुड्ढा अन्ना तेरह दिन का रिकार्ड धारी है तो जवान योगी सात ही दिन मे कैसे ढेर हो गया

रचना ने कहा…

बात अनशन की सो बेकार का लफडा हैं बी पी ऊपर नीचे करना और सांस रोकना तो हर योगी को आता हैं यही होती हैं "चाणक्य नीति

अमीत तोमर ने कहा…

दिल्ली के इंदिरा गाँधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट के इम्मीग्रेशन विभाग के
सूत्रों ने कहा है कि गत 8 जून 2011 को सोनिया गांधी,राहुल गांधी , सुमन दुबे [राजीव गाँधी फाउंडेशन ] विसेंट जार्ज, राबर्ट बडेरा , और लगभग 12
अन्य लोग जिन्होंने इम्मीग्रेशन में अपना पेशा वित्त सलाहाकार बताया है एक निजी जेट से ज्यूरिख [स्विट्जरलैंड ] गए PLEASE FORWARD TO EVERYONE ( baba ramdev ji bhoot ache insan hen jo is kangres ke pille hen vo log sacche des bhagton ko hamesa galiyan hi denge