मंगलवार, 13 सितंबर 2011

भारत का इंटिलिजेंस ब्यूरो या दहशत फ़ैलाने का नया यंत्र है

दिल्ली बम धमाकों की बरसी के अवसर पर इंटिलिजेंस ब्यूरो के सूत्रों से इलेक्ट्रोनिक प्रिंट मीडिया कह रहा है कि बम्बई हवाई अड्डे पर हमला हो सकता है, अहमदाबाद में हमला हो सकता हैसी.बी.आई मुख्यालय पर हमला हो सकता हैया यूँ कहिये देश का कोई महत्वपूर्ण जगह सुरक्षित नहीं रह गयी हैइस तरह का प्रचार अभियान लगातार चला कर इंटिलिजेंस ब्यूरो देश के अन्दर दहशत का माहौल कायम करना चाहतीदेश के नागरिको के टैक्स से अरबो रुपये इन एजेंसियों के ऊपर खर्च किये जाते हैं और इनके द्वारा जारी सूचनाएं भेड़िया आया- भेड़िया आया जैसी साबित होती हैंजब भेड़िया आता है तो इन एजेंसियों का कहीं अता पता नहीं होता हैफिर खेल शुरू होता ईमेल आने का और इन ईमेल के माध्यम से फर्जी मुस्लिम आतंकी संगठनो और कुछ असली आतंकी संगठनो का नाम लगाकर दहशत के माहौल को पुख्ता सबूत देते हुए साम्प्रदायिकता का घिनौना खेल आरंभ होता हैबाद में इलेक्ट्रोनिक प्रिंट मीडिया में बहुत छोटी सी खबर होती है कि ईमेल करने वाला गिरफ्तार और उसका कथित मुस्लिम आतंकी संगठनो से कोई सम्बन्ध नहीं हैलेकिन तब तक देश के अन्दर कितना जहर लोगों को दिया जा चुका होता है कि हवा चलने पर मारपीट (दंगा) शुरू हो जाती है
अब यह खुफिया एजेंसियां ऐसे कानून बनवाने के चक्कर में हैं कि जिसको भी पकड़ कर बंद कर दें, उसको अदालतें एजेंसियों के बयानों के आधार पर लम्बी-लम्बी सजाएं कर दींभारतीय विधि का मूल सिद्धांत है कि पुलिस के समक्ष दिए गए किसी भी बयान कि कोई उपयोगिता न्यायिक विचरण में नहीं हैक्योंकि पुलिस संगठन की विश्वसनीयता कभी रही है हो सकती हैहमारे आपके आम जीवन में पुलिस आये दिन जो करती है अगर उस पुलिस को यह अधिकार मिल जाए कि उसके समक्ष दिए गए बयान को न्यायालय मानने लगे तो इनके द्वारा गिरफ्तार किये गए प्रत्येक व्यक्ति की आत्म स्वीकृतियों के आधार पर हर निर्दोष को भी सजा करा देंगेकई बार देखने में आया है कि लाश किसी की और किसी के नाम पर लोगों को आजीवन कारावास की सजा हो गयी और जिस व्यक्ति की हत्या के आरोप में लोगों को आजीवन कारावास हुआ वह मृतक व्यक्ति बाद में जिन्दा निकला

सुमन
लो क सं घ र्ष !

4 टिप्‍पणियां:

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

इनका सीधा सोचना है कि भीड भगाओ, बम से बचाओ, भगद्ड में मर गये तो कोई नहीं पूछेगा।
रामदेव, अन्ना, से इनकी पुलिस, सी बी आई को फ़ुर्सत मिले तब तो कुछ और सोचे?

Vijai Mathur ने कहा…

दरअसल पी एम साहब ने अन्ना जी से मिल कर जो खेल खेला है उसी की अगली कड़ी है ये हल्ला-गुल्ला। संविधान और संसदीय लोकतन्त्र को नष्ट करने का जो दुष्चक्र अमेरिका के इशारे पर अन्ना टीम ने शुरू किया है उसे पी एम साहब का भरपूर समर्थन है जो उन्होने अन्ना जी को गुलदस्ता भेज कर एवं कमांडोज़ दिलवा कर दिखा भी दिया है।

चंदन कुमार मिश्र ने कहा…

हाँ सही है। पुलिस को तो भारत से हटाने में ही समस्या का समाधान दिखता है।

Mirchi Namak ने कहा…

जब कट्ने के लिये बकरे हाजिर है तो फिर कसाई को किस बात कि चिंता ये देश का खुफिया तन्त्र नही ये तो दहशत तंत्र है जय हो दहशत तंत्र की......