मंगलवार, 23 अप्रैल 2013

समाजवादी परिवारवाद की पुलिस

उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार में पुलिस की दरिन्दिगी व वसूली अपनी पराकाष्ठा पर है। मुज़फ्फरनगर जिले में नौजवानों को लाकर रात भर पीटा गया, करंट लगाया गया. पुलिस की बेरहमी यहीं पर खत्म नहीं हुई पुलिस ने जानवरों जैसा व्यवहार करते हुए युवकों के गुप्तांगों पर बिजली का करंट दिया। रात भर टॉर्चर करने के बाद अगले दिन उन्हें गंभीर हालत में छोड़ दिया गया। लेकिन पुलिस की क्रूरता के निशान उनके शरीर पर ही रह गई। जिसे देखकर लोगों के रौंगटे खड़े हो गए। पुलिस की क्रूरता के शिकार संदीप सैनी, बिट्टू सैनी, संजू सैनी, रितेश और सचिन सैनी के शरीर को देखकर लोगों के रौंगटे खड़े हो गए।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए थाना अध्यक्ष समेत पांच पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज करते हुए जेल भेजने की बात कही।
उत्तर प्रदेश में वसूली करने के लिए और जनता में भय पैदा करने के लिए थानों में बेलन, करंट लगाने के औजार रखे हुए हैं और आये दिन लोगों को पकड़ पकड़ कर बुरी तरह यातनाएं दी जाती हैं जिसकी जानकारी जिले के वरिष्ठ अधिकारीयों व न्याय विभाग के भी अधिकारीयों को होती है। इस काम के लिए उनकी भी मौन स्वीकृति होती है। 
              मिशन 2014 पुलिस विभाग की हरकतों के कारण बुरी तरह से फ्लॉप होगा और समाजवादी परिवारवाद को जबरदस्त धक्का लगेगा। 

सुमन 
लो क सं घ र्ष ! 

1 टिप्पणी:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

समाजवादी सरकार में पुलिस की गुंडा गर्दी तो निश्चित रूप से बड़ी है,,,इसका खामियाजा २०१४ में मुलायम सिंह को उठाना ही पड़ेगा,,,

RECENT POST: गर्मी की छुट्टी जब आये,