गुरुवार, 13 फ़रवरी 2014

स्वामी असीमानंद और 'वक्तव्य वापस लेने' की कला

स्वामी असीमानंद मालेगांव, मक्का मस्जिद, हैदराबाद, अजमेर दरगाह और समझौता एक्सप्रेस में हुए धमाकों के कथित मुख्य कर्ताधर्ता बताए जाते हैं। ये धमाके सन् 2006 से शुरू हुए थे और उनने देश को हिलाकर रख दिया था। इन धमाकों की शुरूआती जांच का नेतृत्व हेमंत करकरे ने किया था, जिन्हें 26.11.2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में मार डाला गया। बाद में राजस्थान पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने इस जांच को अपने हाथों में लिया और कड़ी मेहनत के बाद हिंदुत्ववादी कार्यकर्ताओं के आतंकी नेटवर्क का खुलासा किया, जिसका संचालन आरएसएस से जुड़े या उसकी विचारधारा में विश्वास रखने वाले विभिन्न संगठन कर रहे थे। इस नेटवर्क के कई सदस्य अब जेल में हैं। हाल ;जनवरी 25, 2014 में असीमानंद और तीन अन्यों पर समझौता एक्सप्रेस धमाकों के सिलसिले में औपचारिक रूप से आरोप लगाए गए। असीमानंद आरोपी क्रमांक १ हैं।
अपनी गिरफ्तारी के बाद उन्होंने एक मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष इकबाल.ए.जुर्म किया था। यह इकबाल.ए.जुर्म पूरी तरह ऐच्छिक था और मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट दीपक डबास के समक्ष 18 दिसंबर को तीस हजारी अदालत में दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत दर्ज कराया गया था। स्वामी ने किसी भी प्रकार की विधिक सहायता लेने से इंकार कर दिया था और उनका बयान उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के 48 घंटे बाद कराया गया था ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे किसी प्रकार के भय या दबाव में नहीं है। इस बयान में उन्होंने यह स्वीकार किया कि वे और अन्य हिन्दू कार्यकर्ता, मुस्लिम धार्मिक स्थलों पर बम विस्फोटों में शामिल थे और उन्होंने ये विस्फोट इसलिए कराए थे क्योंकि वे इस्लामिक आतंकवाद को .बम के बदले बम' का प्रति उत्तर देना चाहते थे। यह इकबालिया बयान 42 पृष्ठों का था और उसके बारे में मीडिया में काफी कुछ छपा था।
बाद में वे अपने इस बयान से पीछे हट गए और उन्होंने यह आरोप लगाया कि उन्हें डरा धमका कर बयान देने पर मजबूर किया गया था। उनका यह दावा आश्चर्यजनक और अविश्वसनीय था। हम सब जानते हैं कि पुलिस के समक्ष दिए गए बयान अक्सर दबाव या डर के कारण दिए जाते हैं परंतु जज के सामने दिए गए बयानों के मामले में अमूमन ऐसा नहीं होता। बयान देने के पहले वे 48 घंटे तक जेल में थे और उन्हें पूरे मसले पर विचार करने का पर्याप्त समय था। ऐसा लगता है कि वे जानबूझकर अपने बयान से पलट गए क्योंकि वे अपने साथियों और अपने पितृ संगठन को बचाना चाहते थे। यह घटना हमें महात्मा गांधी की हत्या के मुकदमे के दौरान नाथूराम गोडसे द्वारा दिए गए बयान की याद दिलाती है जिसमे उसने यह दावा किया था कि उसका आरएसएस से कोई संबंध नहीं है। बाद में उनके भाई गोपाल गोडसे ने एक साक्षात्कार में कहा कि उन्होंने आरएसएस से अपने संबंधों से इसलिए इंकार किया था क्योंकि वे संघ के अपने साथियों को बचाना चाहते थे। स्वामी भी विधिक सहायता प्राप्त करने के बाद अपने बयान से पीछे हट गए।
अब एक बार फिर उन्होंने वैसी ही पल्टी खाई है। 'केरेवेन' में प्रकाशित उनके साक्षात्कार से देश भर में बवाल मचने के बाद उन्होंने यह कह दिया कि पत्रिका के संवाददाता को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने वह नहीं कहा थाए जो कि उनके हवाले से छापा गया है। पत्रिका के संपादक और संबंधित रिपोर्टर ने यह दावा किया है कि जो छापा गया हैए वह ठीक वही है जो स्वामी असीमानंद ने कहा था। उन्होंने अपने दावे के समर्थन में साक्षात्कार की ऑडियो रिकार्डिंग के कुछ हिस्से भी जारी किए हैं। केरेवेन में प्रकाशित साक्षात्कार से न सिर्फ यह सिद्ध हो गया है कि स्वामी का इकबालिया बयान सही था वरन् इससे कई नए तथ्य भी उजागर हुए हैं। यह साक्षात्कार धमाकेदार है क्योंकि इससे यह स्पष्ट होता है कि आतंकी नेटवर्क के तार आरएसएस के मुखिया तक से जुड़े हुए थे। केरेवेन में प्रकाशित खबर कहती है 'जिस षड़यंत्र में असीमानंद शामिल थे, उसका विवरण शनैः शनैः और विस्तृत होता गया। हमारे तीसरे और चौथे साक्षात्कार में उन्होंने मुझे बताया कि उनके द्वारा किए गए आतंकी हमलों को आरएसएस के शीर्ष स्तर से स्वीकृति प्राप्त थी। वर्तमान आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत, जो उस समय संघ के महासचिव थे, ने इसकी स्वीकृति दी थी। असीमानंद ने मुझे बताया कि धमाकों के संबंध में भागवत ने उनसे कहा था,'यह महत्वपूर्ण है कि यह किया जाए परंतु तुम्हें उसे संघ से नहीं जोड़ना चाहिए। असीमानंद ने मुझे एक बैठक के बारे में बताया, जो कथित रूप से जुलाई 2005 में'मंदिर से कई किलोमीटर दूर नदी के किनारे लगाए गए एक टेंट में हुई थी। भागवत और कुमार, असीमानंद और उनके साथी सुनील जोशी से मिले। जोशी ने भागवत को देश के कई मुस्लिम स्थलों पर बम धमाके करने की अपनी योजना के बारे में बताया। असीमानंद के अनुसार दोनों आरएसएस नेताओं ने योजना को स्वीकृति दी। भागवत ने उनसे कहा 'तुम सुनील के साथ इस पर काम कर सकते हो। हम इसमें शामिल नहीं होंगे परंतु अगर तुम यह कर रहे हो तो तुम यह मान सकते हो कि हम तुम्हारे साथ हैं।' द बिलिवर स्वामी असीमानंदस् रेडीकल सर्विस टू द संघ, लीना गीता रेघुनाथ, केरेवेन, 1 फरवरी 2014।
इस लेख में लीना गीता रेघुनाथ लिखती हैं कि उन्होंने पिछले दो वर्षों में स्वामी से चार बार मुलाकात की और उनकी लंबी बातचीतें हुईं। इस लेख में स्वामी असीमानंद, जो कि आरएसएस के सहयोगी संगठन वनवासी कल्याण आश्रम में थे, की गतिविधियों का विस्तृत विवरण दिया गया है। असीमानंद प्रशिक्षित आरएसएस स्वयंसेवक हैं जो गुजरात के आदिवासी क्षेत्रों में काम करते थे। गुजरात के डांग जिले में आयोजित शबरी कुंभ के वे मुख्य आयोजक थे। वे अपने एजेण्डे का वर्णन काफी साफ शब्दों में करते हैं। उनका लक्ष्य था घरवापसी अभियान के जरिए आदिवासियों को हिन्दू समाज का हिस्सा बनाना। उन्हें आदिवासियों से जुड़े असली मुद्दों में कोई रूचि नहीं थी। आदिवासियों की भलाई के कार्यक्रमों, उनके अधिकारों से उन्हें कोई मतलब नहीं था। मुझे भी याद है कि जब नागरिकों के एक दल के सदस्य बतौर मैं स्वामी के आश्रम गया था, तो वहां हमने कुपोषित, अर्द्धनग्न आदिवासी बच्चों को देखा, जो जय श्रीराम कहकर हमारा स्वागत कर रहे थे। हम लोग वहां शबरी कुंभ की तैयारियों का अध्ययन करने गए थे। केरेवेन में छपे लेख के कुछ हिस्से आदिवासी क्षेत्रों में उनके काम के बारे में है। मीडिया के एक हिस्से और डांग में ईसाईयों पर हमलों की जांच रपटों में स्पष्ट रूप से कहा गया था कि वे शबरी कुंभ के मुख्य आयोजनकर्ता थे। अब यही बातें स्वामी असीमानंद स्वयं बता रहे हैं।
केरेवेन के लेख का एक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि स्वामी असीमानंद अपने राजनैतिक एजेण्डे की चर्चा अत्यंत गर्व से करते हैं। उन्हें इस बात पर भी गर्व है कि वे जेल की उसी कोठरी में हैं, जिसमें फांसी दिए जाने के पहले नाथूराम गोडसे को रखा गया था। अपने साक्षात्कार में वे यह भी बताते हैं कि उन्होंने आतंकी हमलों की योजना बनाने, बम धमाकों के लिए स्थान चुनने, बम बनाने के लिए धन जुटाने और बम लगाने वालों को छिपने का स्थान उपलब्ध करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। यही बातें उन्होंने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने अपने इकबालिया बयान में भी कहीं थीं।
असीमानंद के अनुसार, 'भागवत ने हिंसा के बारे में कहा'अगर तुम यह करोगे तो लोग यह नहीं कहेंगे कि तुमने कोई अपराध किया। इसे विचारधारा से जोड़ा जाएगा। यह हम हिंदुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। कृपया यह करो। हमारा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है। '
अब यह सारा मुद्दा साक्षात्कार की सत्यता पर बहस और ऑडियो टेपों की फोरेन्सिक जांच आदि में उलझ जाएगा। जब स्वामी मजिस्ट्रेट के सामने दिए गए बयान से पीछे हट सकते हैं तो साक्षात्कार को गलत बताना तो उनके लिए बांये हाथ का खेल है। आरएसएस की गतिविधियों के इस पहलू की गहन जांच की आवश्कता है और इसमें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए कि आतंकी हमलों से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जुड़े लोगों की हैसियत क्या है। 
-राम पुनियानी