मंगलवार, 12 जनवरी 2016

50 रुपये में ईमान

50 रुपये में
 जहाँ भ्रष्टाचार होता है, वहां हर चीज बिकाऊ होती है. वहां देशभक्ति, राष्ट्रभक्ति सिर्फ नारों की चीज होती है. पठानकोट एयरबेस में आतंकी हमले को लेकर एन आई ए की जांच में नया खुलासा यह हुआ है कि एयरबेस में जानवरों को घास चराने के लिए 50 रुपये देकर कोई भी जानवर समेत अन्दर जा सकता था. पठानकोट आतंकी हमले में अब तक आठ जवान मर चुके हैं. आईपीएस से लेकर साधारण जवान तक की संलिप्तता नजर आ रही है. सीमा पर ड्रग व हथियार स्मगलर्स की वजह से भ्रष्टाचार की एक नयी कड़ी बनी हुई है जब तक उस श्रृंखला को समाप्त नही किया जाता है तब तक इस तरह की घटनाओं पर विराम नहीं लगया जा सकता है. 
एयर बेस की दीवालें 11 फीट ऊँची हैं और उसके ऊपर कटीले तार लगे हैं. अन्दर साइड से सड़क बनी है. फ्लड लाइट्स लगी हुई हैं किन्तु एयर बेस के अन्दर के कर्मचारियों ने फ्लड लाइट्स की दिशा बदल दी थी. जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ती जा रही है. नए-नए चेहरे, नयी-नयी बातें सामने आ रही हैं.
धर्म से इस तरह की घटनाओं को जोड़ने वाले लोगों के मुंह पर ताला लगा हुआ है क्यूंकि अल्पसंख्यक समूह के नाम आते ही उन लोगों की राजनीति व प्रचार शुरू हो जाता था इसीलिए अब वह लोग चुप्पी साधे हुए हैं अन्यथा एक घृणा का वातावरण व उन्माद पैदा कर वोटों के ध्रुवीकरण को स्थाई स्वरूप प्रदान करने का काम हो गया होता. 
जनता में केंद्र में मौजूदा सत्तारूढ़ दल की राष्ट्रभक्ति की कलई भी खुलनी शुरू हो गयी है. लफ्फाजी पर लगाम लग रही हैं. जनता उनको अब होने वाले चुनावों में नकार रही है, जिसका ताजा उदाहारण महाराष्ट्र व हिमांचल प्रदेश के स्थानीय निकायों के चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ रहा है. महाराष्ट्र में 304 सीटों में से 104 कांग्रेस दूसरे नंबर पर 78 सीटें लेकर एनसीपी रही है, भाजपा को मात्र 33 सीटों पर संतोष करना पड़ा. जैसे-जैसे पर्दा उठ रहा है, मुखौटा नुच रहा है. नागपुर मुख्यालय की अफवाहबाजी समाप्त हो रही है. 

सुमन 

कोई टिप्पणी नहीं: