गुरुवार, 18 फ़रवरी 2016

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का माहौल बहाल करें

जिला अधिकारी बाराबंकी को ज्ञापन देते हुए
बाराबंकी। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय नई दिल्ली छात्र संघ के अध्यक्ष श्री कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी घोर निन्दनीय है क्योंकि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष श्री कन्हैया कुमार ने कोई अपराध ही नहीं किया था अपितु नागपुरी मुख्यालय की विषाक्त विचारधारा से ग्रसित गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने षड्यंत्र कर दिल्ली पुलिस कमिश्नर बस्सी की मदद से फर्जी देश द्रोह का मुकदमा कायम कर गिरफ्तार कराया है जैसा कि आपको ज्ञात है कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अद्भुत व महान नेता मोहनदास करमचन्द गांधी की हत्या नागपुरी विचारधारा से पोषित नाथुराम गोडसे ने कर दी थी यह वही लोग है कि गांधी की हत्या को सही साबित करते हुए गोडसे को महिमामंडित करते है इस देश के महान स्वतंत्रता संग्राम में नागपुरी मुख्यालय का कोई योगदान नहीं था अपितु अंग्रेजों की मुखबिरी का कार्य करने वाले यह लोग देश भक्ति-राष्ट्र भक्ति की नकली नकाब लगाकर अब देश भक्ति का प्रमाण पत्र जारी करने की कोशिश कर रहे हैं।
                                                  यह बाते भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी व अखिल भारतीय किसान सभा ने राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन लिखते हुए आगे लिखा कि दिल्ली के अन्दर पटियाला कोर्ट के अन्दर व बाहर कन्हैया कुमार के समर्थकों की पिटाई इसी विषाक्त विचारधारा के लोगों ने की जिसका भी कोई संज्ञान गृहमंत्री ने नहीं लिया और न ही दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कोई कार्यवाही की गृहमंत्री कहता है कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में हाफिज सईद प्रदर्शन करवा रहा है। जबकि वास्तविकता यह है कि वेद प्रकाश वैदिक के माध्यम से गृहमंत्री हाफिज सईद से रिश्तेदारी जोड़ने की कोशिश कर रहा है। जबकि हाफिज सईद की बात खूफिया एजेन्सी ने मनगढ़ंत पायी है।
                                        ज्ञापन में यह मांग की गई कि गृहमंत्री व दिल्ली पुलिस कमिश्नर बस्सी ने जो षड्यंत्र पूर्ण तरीके से जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष श्री कन्हैया कुमार को गिरफ्तार कराया है उन्हें अविलम्ब बर्खास्त करें तथा विश्वविद्यालयों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का माहौल बहाल करें।
                                  ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वालों में बृजमोहन वर्मा सचिव, कम्युनिस्ट पार्टी,  सह सचिव-रणधीर सिंह सुमन,  डा0 कौसर, डा0 उमेश चन्द्र वर्मा    अखिल भारतीय किसान सभा के जिलाध्यक्ष विनय कुमार सिंह तथा महामंत्री सत्येन्द्र कुमार, अधिवक्ता निर्मल वर्मा, विजय प्रताप सिंह, आनन्द सिंह, नीरज वर्मा, पुष्पेन्द्र कुमार सिंह, कर्मवीर सिंह चैहान, प्रदीप सिंह, मु0 रईस कादरी, गनेश सिंह अनूप व संदीप वर्मा आदि प्रमुख लोग उपस्थित रहे। ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा गया है।

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (20-0122016) को "अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का माहौल बहाल करें " (चर्चा अंक-2258) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'