मंगलवार, 23 फ़रवरी 2016

कन्हैया कुमार जिन्दाबाद


बाराबंकी। राजनाथ सिंह मुर्दाबाद, देश भक्तों को देशद्रोही बताकर गिरफ्तारी बन्द करो, कन्हैया कुमार जिन्दाबाद, फर्जी मुकदमें वापस लो जैसे नारों के बीच जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के मुख्य षड्यंत्रकर्ता गृहमंत्री का पुतला जिलाधिकारी कार्यालय के सामने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं ने फूंका।
    पुतला दहन से पूर्व पार्टी के सहसचिव रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि आजादी की लड़ाई  में अंग्रेजों की मुखबरी करने वाले लोग आज जब सत्ता में है तो उनको हर नौजवान देशद्रोही ही नजर आ रहा है। इनके कार्यकर्ताओं ने गांधी की हत्या की थी और गांधी की हत्या को सही बताकर गोडसे को महिमामण्डित करते हैं। पार्टी के सहसचिव डा0 कौसर हुसैन ने कहा कि इनका पहले से तय किया हुआ एजेण्डा है यह मुस्लिम नौजवानों को फंसाकर देशद्रोही साबित करने का काम करते हैं। उमर खालिद को पहले यह लोग कश्मीरी बता रहे थे और फिर पाकिस्तान यात्रा करने की बात कर रहे थे और यह दोनों बाते झूठी साबित हुई। इससे यह साबित होता है कि यह लोग षड्यंत्र कर बेगुनाह छात्रों को देशद्रोह जैसे गम्भीर अपराध में फंसाकर उनका कैरियर समाप्त कर देना चाहते हैं।
   भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता डा0 उमेश चन्द्र वर्मा ने कहा कि कन्हैया कुमार के मामले में पार्टी चुप नहीं बैठेगी और उनके रिहाई तक आन्दोलन चलता रहेगा।
    पुतला दहन कार्यक्रम में किसान सभा के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह, महामंत्री सत्येन्द्र कुमार, मुनेश्वर बख्श, नीरज वर्मा, विजय प्रताप सिंह, पुष्पेन्द्र कुमार, निर्मल वर्मा, गनेश सिंह, कर्मवीर सिंह, मो0 कदीर, अंकित यादव, राममिलन वर्मा, सुरेश यादव, गिरीश चन्द्र, वीरेन्द्र शुक्ला, रामनरेश, आनन्द सिंह, बलराम सिंह, प्रमोद कुमार वर्मा आदि प्रमुख लोग थे।




कोई टिप्पणी नहीं: