शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

योगी सरकार की नीतियों के कारण किसान ठंडक में खेतों में सोने को मजबूर

भाकपा कार्यकर्ताओं ने सरकार की नीतियो के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन
ठंड़क भरी रात में फसलों की रखवाली करने को मजबूर हैं किसान - रणधीर सिंह सुमन
 
बाराबंकीं। प्रदेश मे योगी सरकार के आने के बाद आवारा पशुओ की संख्या उनकी नीतियो के कारण बढ़ गई है। जिससे खेती किसानो करने वाले लोग अपनी फसलो को बचाने के लिये ठड़क भरी रातो में खेत की रखवाली करने को मजबूर है। उसके भी बावजूद लगभग 50 प्रतिशत फसले आवारा पशुओ द्वारा नष्ट की जा चुकी है। योगी इस विकराल समस्या का समाधान करने मे असमर्थ है। प्रदेश मे पूर्व की सरकारों ने ग्रामीण क्षेत्रो मे सबको बिजली मिले इसके लिये विद्युत दरो को कम करके रखा था। लेकिन वर्तमान सरकार ने अत्याधिक बिजली दामो को बढ़ा दिया है। जिससे गरीब आदमियो को विद्युत कनेक्शन जारी रखना दुर्भर हो गया है। उक्त बातें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सहसचिव रणधीर सिंह सुमन ने विरोध प्रदर्शन करने के पश्चात् जिलाधिकारी कार्यालय पर व्यक्त किये। पार्टी के जिला सचिव बृजमोहन वर्मा ने कहा कि धर्म के आधार पर जनता को लड़ाने के अतिरिक्त इस केन्द्र व प्रदेश की सरकार के पास कोई एजेन्ड़ा नही है। तो वही पार्टी सह सचिव डा0 कौसर हुसैन ने कहा कि मॉब-लीचिंग के कारण अल्पसंख्यको का जीवन मुश्किल है। अराजकता का दौर जारी है। अराजकतत्वो द्वारा लोगो की पीट-पीटकर मारने की घटनांए बड़ी है। किसान सभा जिलाध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि आलू जैसी नकदी फसलो के दाम नही मिल पा रहे है। धान खरीद की व्यवस्था इनके करीबी सिर्फ झूठ बोलने के अतिरिक्त कोई कार्य नही है। प्रदर्शनकारियों मे दलसिंगार, अमर सिंह, रामनरेश वर्मा, गिरीश चन्द्र, प्रवीन कुमार, मुकेश, गणेश सिंह अनूप, नीरज वर्मा, अवधेश यादव, वीरेन्द्र कुमार, प्रमोद वर्मा, नरेन्द्र यादव, पूर्णश प्रताप सिंह, राजेश सिंह, सुरेश यादव मौजूद रहे।

 - भूपिंदर पाल सिंह "शैंकी"

कोई टिप्पणी नहीं: