रविवार, 23 जून 2019

कर्ज माफी

कर्ज माफी किसानों को राहत तो देती है, लेकिन ये उनकी समस्याओं का हल नहीं है। आप दसियों लाख किसानों को दिए चालीस हजार करोड़ कर्ज की चिंता करते हैं जबकि अकेले अडानी को अरबों डॉलर का कर्ज दे देते हैं। 2008 में यूपीए सरकार ने कर्ज माफी का ऐलान किया था लेकिन इसके फायदे ज्यादातर किसानों तक नहीं पहुंच पाए। ज्यादातर किसानों ने निजी कर्ज लिया है. ऐसे में कर्ज माफी का फायदा वे नहीं उठा पाते हैं। देश में पहली कर्जमाफी चौधरी देवीलाल के समय 1980 के दशक में की गई थी। उसके बाद यूपीए ने 2008 में किसानों का कर्ज माफ किया।
लेकिन यही सरकारें हर साल लाखों-करोड़ का कॉर्पोरेट कर्ज माफ करती हैं. 2006-2007 के बजट के बाद से बजट में राजस्व माफ का भी ब्यौरा होता है. 2015 में सरकार ने 78 हजार करोड़ का कॉर्पोरेट टैक्स माफ किया। सरकार के पास विजय माल्या को नौ हजार करोड़ देने का पैसा है। यानी सरकार के पास पैसा है, लेकिन सवाल यह है कि वह मिल किसे रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: