मंगलवार, 17 अगस्त 2010

हिटलर का प्रचार मंत्री गोविल्स भी शरमाया होगा

हिटलर का प्रचार मंत्री गोविल्स का कहना था कि एक झूंठ को सौ बार बोला जायेगा तो वह सच हो जायेगाउसी का उपयोग कर यहाँ प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक .पी महेश्वरी ने कहा है कि अलीगढ में जो मौतें हुई हैंवह ग्रामीणों की खुद की फायरिंग से हुई हैं वस्तुस्तिथि यह है कि अब जूलूश प्रदर्शन पर गोली-बारी प्राइवेट बोरे की बंदूकों से की जाती है ताकि मरने वालों की हत्या की जिम्मेदारी से बचा जा सकेअधिकांश पुलिस वालों के पास व्यक्तिगत लाईसेंस होते हैं तथा थानों में जमा आर्म्स का भी उपयोग पुलिस वाले फायरिंग में करते हैं ताकि जनता की बात को झुठलाया जा सकेअलीगढ में हुई किसानो की हत्याएं प्रशासनिक अफसरों ने की है तो पूरा शासन और प्रशासन गोविल्स की तर्ज पर यह कहना शुरू कर दिया है कि किसानो की मौत उनकी खुद की फायरिंग से हुई है
वहीँ बसपा के अध्यक्ष ने कहा है कि मथुरा अलीगढ का किसान आन्दोलन विपक्षी दलों की साजिश है सरकार जब किसी मोर्चे पर असफल होती है तो तुरंत उसको विपक्षी दलों का हार नजर आने लगता हैवह अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए हमेशा यही तोहमत मढ़कर फुर्सत ले लेना चाहते हैंइन दोनों बयानों को देख कर हिटलर का प्रचार मंत्री यदि होता तो अभी शर्म खा जाता किन्तु अधिकारियो और नेताओं को जरा सी भी शर्म महसूस नहीं होती है. यमुना एक्सप्रेस नोएडा से लेकर आगरा तक बनाया जा रहा हैजिसमें करोडो रुपये के घोटाले हैंउद्योगपतियों और प्रशासनिक अफसरों को लाभ पहुँचाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाये जा रहे हैंएक्सप्रेस वे के दोनों और पांच बड़े टाउन्स सेज तथा उद्योगिक क्षेत्र बनाने की बात है जिसमें लाखों किसानो की जीविका चली जानी हैकिसान 750 प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से मुआवजा मांग रहे थेजबकि भूमि अधिग्रहण के बाद वही भूमि हजारो रुपये प्रति वर्ग फीट के दाम बेचीं जानी हैकिसानो के लिए कोई भी सरकार आये सिर्फ वह उसका शोषण ही करती है।


सुमन
लो क सं घ र्ष !

1 टिप्पणी:

हास्यफुहार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।