बुधवार, 25 अगस्त 2010

क्या है भगवा आतंकवाद ?

जर्मन नाजीवादी विचारधारा से ओत-प्रोत हमारे देश के हिन्दुवत्व वादी संगठन द्वारा आतंक फैलाने की कार्यवाहियों को भगवा आतंकवाद कहते हैंनादेड से लेकर मालेगाँव, मक्का मस्जिद, दिल्ली के बम धमाके, मडगांव, कानपुर में भगवा आतंकवादियों ने बम विस्फोट कर के आतंक फैलाने का काम किया काफी लोग मारे भी गएलोकसंघर्ष ब्लॉग ने इस विषय पर कई बार जब लिखा तो भगवा अतंकवादियो के पिट्ठू ब्लोगर्स ने गालियाँ तक लिखी
आज भारत सरकार ने भी मान लिया है कि देश में अशांति फ़ैलाने के लिए भगवा आतंकवाद सक्रिय है, जिसके ऊपर ध्यान देने की जरूरत हैराज्यों के पुलिस महानिदेशकों की तीन दिवसीय बैठक को संबोधित करते हुए गृह मंत्री श्री चिदंबरम ने कहा कि देश में भगवा आतंकवाद भी हैइस समय अमेरिकन साम्राज्यवादी शक्तियां इस देश कि एकता और अखंडता को तहस नहस करने के लिए धार्मिक उन्माद फैला कर गृह युद्ध की स्तिथि पैदा करना चाहती हैंइस देश में हिन्दुवत्व वादी लोग अमेरिकन साम्राज्यवादियो के एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं
सितम्बर माह में उत्तर प्रदेश में बाबरी मस्जिद प्रकरण पर माननीय उच्च न्यायलय का फैसला आने वाला है हिन्दुवत्व वादी विचारधारा के मानने वाले भगवा आतंकवादी भारी पैमाने पर अशांति फ़ैलाने के लिए जुगाली करना शुरू कर दिए हैंचिट्ठा जगत में भी भगवा आतंकियों के प्रतिनिधि अर्धसत्यों अफवाहों का सहारा लेकर उन्माद फैलाने की चेष्ठा में लगे हुए हैं
भारत एक बहुजातीय, बहुभाषीय, बहुधर्मीय देश हैइसकी एकता और अखंडता सबको मिलकर चलने में ही है जो भी इन सब मुद्दों को लेकर विवाद खड़ा करने की कोशिश करते हैं वह लोग निश्चित रूप से देश की एकता और अखंडता को कमजोर करते हैं और साम्राज्यवादी मंसूबों का चाहे-अनचाहे हथकंडा बन जाते हैं

सुमन
लो क सं घ र्ष !

6 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

अगर भगवा आतंकवाद आ भी गया है तो क्‍या हुआ । तुमने कसर कौन छी छोडी थी जो अब हिन्‍दू कसर छोडे । जिस दिन हिन्‍दू आतंकवाद सच में आ गया, समझ लो तुम जैसों की खटिया खडी हो गई । बडे आये भगवा आतंकवाद बताने वाले । इन कमीने विधर्मियों ने हिन्‍दुओं के सामने रास्‍ता ही कौन सा छोडा है ,

हमारे घर में घुसकर कोई हरामी बस हाँथ उठा कर जोर से उपर देखकर चिल्‍ला दे तो हो गया हमारा घर उसका इबादतगाह ।

कितने हिन्‍दू बेचारे पाक में जानवरों से भी बदतर जीवन जी रहे हैं पर उनकी तो नहीं कहेगा कोई । उधर देखने के पहले ही आंखें फूट जाती हैं तुम सब की ।

अब वहाँ हिन्‍दू अल्‍पसंख्‍यक हैं तो इसलिये उनकी गलती और यहाँ वो बहुसंख्‍यक हैं तो भी इनकी ही गलती । वाह क्‍या दोगलेपन वाली बात कही है ।

एक बाबरी के गिर जाने पर सब हरमकट्ट बवाल काट रहे हैं , हिन्‍दू आतंकवाद बता रहे हैं और बांग्लादेश, पाकिस्‍तान , अफगानिस्‍तान और अन्‍य कई मुगलदेशों में प्राचीन हिन्‍दू मंदिर गिरा दिये गये उनके लिये सब भडुए मर गये हैं, किसी को भी इसपर कुछ नहीं कहना है ।


बहुत अच्‍छा हो अगर इसबार भी कोई ऐसा ही किसी आक्रांता द्वारा बनवाया हुआ इमारत तोड दिया जाए और फिर बवाल हो जाये ।


हम जानते हैं अभी कई कमीने मेरी इस टिप्‍पणी पर मरने वाले हैं, पर एक हाँथ से कभी ताली बजी है क्‍या, अगर ये बद्तमीज हमें कुछ भी कहने का अधिकार रखते हैं तो हम भी बोलेंगे, मुह खोलकर और दिल खोलकर बोलेंगे ।


बडे आये भगवा आतंकवाद बताने वाले

तेरे जैसे ही लोगों की वजह से और हिन्‍दू मुस्लिम दंगे होते हैं । तु इसका सबसे बडा जिम्‍मेदार है ।

तुझे तेरा खुदा भी माफ नहीं कर पाएगा ।

दीपशिखा वर्मा / DEEPSHIKHA VERMA ने कहा…

shukriya suman ji , bhagwa atangwaad se parichit karwaane ke liye ..warna ab tak sirf naam suna tha .

दीर्घतमा ने कहा…

ये भगवा आतंक नहीं यह तो सेकुलर सरकार क़े गृहमंत्री ने भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी द्वारा कराया हुआ बिस्फोट है ये सब बामपंथी और सेकुलरिस्टो की मिली जुली हिन्दू संगठनों को बदनाम करने की साजिस है यदि हिन्दू आतंकबादी हो ही गया तो क्या होगा यह सोचने की बात है उसे जगाओ नहीं तभी ठीक है .

शिवम् मिश्रा ने कहा…

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

बेनामी ने कहा…

चिंता मत करो, इन भगवों और इस ऊपर वाले बेनामी जैसे पागल कुत्तों की में डंडा डालने के लिए वो लोग धीरे धीरे शहर की ओर बढ़ रहे हैं। फिर अपने बिल में मत धुस जाना।

बेनामी ने कहा…

अबे नीचे वाले नीच बेनामी

तेरे तो पहले से ही डंडा पडा हुआ है तू क्‍या डंडा डालेगा ।

और आने तो दे 15 सितम्‍बर, एक-एक हिजडों के डंडा पड जाऐगा ।

फिर से एक गोधरा हो जायेगा ।


और लग तो रहा है जल्‍दी ही भारत के कुछ राज्‍य हिजडा विहीन होने वाले हैं ।