शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

हिन्दू भगवा ब्रिगेड का हिन्दू योद्धा भर्ती अभियान


बाबरी मस्जिद प्रकरण पर 24 सितम्बर को माननीय उच्च न्यायलय इलाहाबाद खंडपीठ लखनऊ का फैसला आना हैअमेरिकन साम्राज्यवादियों के एजेंट इस देश की एकता और अखंडता को खंडित करने हेतु तरह-तरह के अभियान चला रहे हैंएस.एम.एस द्वारा एक धर्म विशेष मतावलंबियों के खिलाफ जहर उगला जा रहा हैहद तो यहाँ तक हो गयी कि मध्य प्रदेश के जबलपुर में जगह-जगह हिन्दू योद्धा भर्ती अभियान के पोस्टर लगे हुए हैंबेशर्मी की भी एक हद होती है, इन पोस्टरों में शहीद भगत सिंह, अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद, डॉक्टर भीम राव अम्बेडकर तथा महान स्वप्नदर्शी विवेकानंद आदि के भी फोटो छपे हैं यदि इन महापुरुषों के विचारों को देखें तो इनकी विचारधारा भगवा ब्रिगेड के विपरीत रही हैकेंद्र सरकार को चाहिए कि अविलम्ब इन अराजक तत्वों के खिलाफ कठोर कार्यवाई करें । जो देश की एकता और अखंडता को अक्षुण बनाये रखने तथा विधि का शासन स्थापित करने के लिए आवश्यक है।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

11 टिप्‍पणियां:

'उदय' ने कहा…

... andher nagaree chaupat raajaa ... yah kahaavat siddh ho saktee hai !!!

AlbelaKhatri.com ने कहा…

kuchh kahne layak bacha nahin hai ab !

nice post !

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छा लगा पढकर।

Sadhana Vaid ने कहा…

आपकी बातों में वज़न है ! बढ़िया आलेख !

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
साहित्यकार-महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, राजभाषा हिन्दी पर मनोज कुमार की प्रस्तुति, पधारें

Sadhak Ummedsingh Baid "Saadhak " ने कहा…

ab aapako kya kahun sumanaji. itana kahana kafee hogaa ki aapa svayam is aag men petrol daala rahe hain. itana bhi nahin jaanaa ki isase virodh-sangharsh aur badhataa hai. vivaadaaspad muddon par chup rahana, yaa seedhe vyaktigat baat karana hi upayukt hai. ... par aapa kahaan chup rahate hain.... lage rahen.

निर्मला कपिला ने कहा…

सहमत हूँ। धन्यवाद।

Suresh Chiplunkar ने कहा…

नाइस साहब…

"हिन्दू योद्धा" अव्वल तो मिलेंगे नहीं, और यदि 100-50 मिल भी गये तो जब जरुरत होगी तब सामने आयेंगे नहीं…। यह सिर्फ़ आव्हान है जिसके सफ़ल होने की उम्मीद कम ही है, क्योंकि सेकुलरिज़्म और गांधीवाद, हिन्दुओं की नसों में ऐसा भरा है कि माओवादी सरेआम नेपाल में एकमात्र हिन्दू राष्ट्र का बलात्कार कर लेते हैं लेकिन इधर कोई प्रदर्शन नहीं होता… कश्मीर में सैकड़ों मन्दिर तोड़े जाते हैं न कोई जाँच न आयोग… इधर हम एक ढांचे को लेकर ही विधवा विलाप करते रहते हैं…

कहाँ आप हिन्दू योद्धा की बात को लेकर चिन्तित हो रहे हैं… हिन्दू योद्धा यदि वाकई अस्तित्व में होते तो भगवान राम को "काल्पनिक चरित्र" बताने वाले अफ़सर या मंत्री को सड़क पर घसीटकर न मारते?

छोड़िये भी… "हिन्दू योद्धा"(?) नामक अवधारणा अभी पैदा हुई नहीं है… हाँ कोशिश अवश्य जारी है, कि यदि कोई रामायण या गीता जलाने की घोषणा करे तो उसका गला काटने लायक असली योद्धा तैयार किये जा सकें… लेकिन फ़िलहाल तो ऐसा साकार होता दिखता नहीं… चिंता मत कीजिये… कुरान जलाने की तो सिर्फ़ घोषणा हुई थी तो हजारों मील दूर भारत में लोग ताण्डव करने लगे थे, लेकिन रामायण हकीकत में जल जायेगी तब भी कोई हिन्दू घर से निकलने वाला नहीं है… ऐसा होता है गाँधीवादी नपुंसकता के इंजेक्शन का असर… :) :)

सुज्ञ ने कहा…

आश्चर्य है, जिन्हे व्यंग्य मस्करी से "भगवा ब्रिगेड" कहा जाता है, उन्होने ही इस शिर्षक को अपना लिया।

यह सब वैचारिक जुगाली के परिणाम होते है।

बेनामी ने कहा…

आप एक सच्चे सेक्युलर है, आप को एकबार कहा था कि “कश्मीर के हालात को भी ब्लॉग पर लाये, आप है कि सुनते ही नहीं है| बस सिर्फ लगे पड़े है हिंदु और नरेन्द्र मोदी के पीछे |
क्यों पगार कम ...... हो जायेगी ...

Amit Soni ने कहा…

२४ तारीख के प्रत्याशित दंगो की तैयारिया बहुत लोग कर रहे है, हरित दंगाई , भगवा ब्रिगेड, पुलिस, सी.आर .पी.एफ. हर कोई........

पर काश की की इनके सपने कभी सच न होवे ....................................

न कभी दंगे हो न , झगडे..............

सारे धर्म यही कहते है की ईश्वर आपके दिल में बसता है, किसी मंदिर मस्जिद या गुरूद्वारे में नहीं, पर शायद अल्लाह और भगवान की सुनता ही कौन है. ....................................