रविवार, 24 जुलाई 2011

जमींदार - राजा-महाराजा यह सब थे देश के गद्दार

भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद की स्थापना के बाद सी राजा-महाराजा-जमींदार यह सब उनके पिट्ठू थे और इनकी हर कोशिश यह रहती थी की ब्रिटिश साम्राज्यवाद का साम्राज्य बना रहेजो राजा या महाराजा या जमींदार अंग्रेजो की गुलामी करने में चूक कर बैठते थे उनके हाथ से शासन सत्ता चली जाती थीइसके अतिरिक्त ब्रिटिश साम्राज्यवादियों ने भारत से गद्दारी करने वालों को सर, राय बहादुर , खान बहादुर सहित सैकड़ों पदवियां दिया था यह लोग भी अंग्रेजों को हर तरह से खुश रखने के लिये कुछ भी करने के लिये तैयार रहते थेभगत सिंह की फांसी दिलाने में अभियोजन पक्ष के दो प्रमुख गवाह शोभा सिंह तथा मेरठ के पास के सादीलाल थे जिनको ब्रिटिश साम्राज्यवादियों ने सर की उपाधि दी थी और तरह-तरह के कार्य इन लोगों के कहने से किये जिससे उस समय यह लोग लाखों रुपये कमाएंसुप्रसिद्ध पत्रकार खुशवंत सिंह सर शोभा सिंह के पुत्र हैं और सर सादीलाल के वंशजों के पास शराब के कारखानों सहित अथाह सम्पदा हैआजादी की लड़ाई में जमींदार राजे-महाराजे महात्मा गाँधी की जय करने पर भी अपने कारिंदों से पिटवा देते थे और पुलिस बुलाकर जेल भिजवा देते थेउस समय की सजाओं में प्रमुख था हंटरों से चमड़ी उधेड़ देना, घाव के ऊपर नमक छिड़क देना, मुंह पर गुह बांध देना
आजादी के बाद "हम तबो लूटा खावा है हम अबो लूटित खाइत है"। तब हिटलर कैप लगावा है अब गांधी कैप लगाईत है " के नारे के साथ देश की शासन सत्ता पर काबिज हो गएआजादी की लड़ाई लड़ने वाला मजदूर-किसान ठगा का ठगा रह गया उसके हिस्से में सिर्फ भूख और प्यास आई और अमेरिकन साम्राज्यवादियों का प्रभाव बढ़ने पर मजदूरों और किसानो के हिस्से में आत्महत्याएं ही रही हैंहिंदुत्व वादी शक्तियां जो पहले ब्रिटिश साम्राज्यवाद के साथ थीं वह अब अमेरिकन साम्राज्यवाद के साथ हैंयह लोग धर्म, जाति, भाषा, प्रांतीयता के नाम पर उन्माद फैला कर देश की एकता और अखंडता को भी कमजोर करते हैं जिससे साम्राज्यवादी ताकतों को बल मिलता है

सुमन
लो क सं घ र्ष !

3 टिप्‍पणियां:

Vijai Mathur ने कहा…

शत-प्रतिशत हकीकत कहता लेख ।

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

शोभासिंह और शादीलाल को महिमामंडित करने वाले भी तो सेकुलर गिरोह के लोग ही है !!

Dr. shyam gupta ने कहा…

शोभासिंह और शादीलाल को महिमामंडित करने वाले भी तो तथाकथित सेकुलर व छद्म दलित गिरोह के लोग ही है !----हिंदुत्व वादी शक्तियां नहीं ....

---ब्रिटिश व अमेरिका के साथ भी ये ही लोग तब थे व अब भी हैं न कि हिंदुत्व वादी शक्तियां ...तभी तो हिंदुत्व वादी शक्तियाँ अभी भी विरोध, प्रतिबन्ध अदि के दंश झेल रही हैं....
---सब राजे -महाराजे नहीं अपितु अधिकाँश ...