शनिवार, 10 सितंबर 2011

एन जी ओ पर नजर रखना जरूरी

महान आदमी पैदा नहीं होता है, बल्कि मामूली आदमी जब महान कार्य करता है तो वह महान बन जाता है, अन्ना हजारे के बारे में यही बात सच हैफ़ौज का अवकाश प्राप्त मामूली ड्राईवर अन्ना हजारे आज अख़बार की सुर्ख़ियों में है और कोई 43 वर्षों से संसद की अलमारी में कैद लोकपाल बिल केवल संसद में, बल्कि गाँव-गाँव, नगर-नगर और डगर-डगर पर बहस का मुद्दा बन गयाजाहिर है, भ्रष्टाचार से लुंज-पुंज प्रशासन सटोरियों, कालाबाजारियों, जमाखोरों, मुनाफाखोरों पर कारगर कार्यवाई करने के मामले में पूरी तरह लकवाग्रस्त है
लेकिन यह भी उतना ही सच है कि बड़े आदमी की कमजोरी भी बड़ी होती हैअन्ना इसके अपवाद नहीं हैंलोकपाल विधेयक के दायरे में कर्मचारी से लेकर प्रधानमंत्री तक लाये जायें, यह बात तो जल्दी ही जनता की समझ में गयी, किन्तु अन्ना के जन लोकपाल विधेयक के दायरे से एन जी और कार्पोरेट से परस्पर सहयोग का सम्बन्ध रखते हैं, इसलिए उनपर इतनी मेहरबानी की गयी हैगांधीजी का अवतार होने का दावा करनेवालों को यहाँ यह बताना लाजिमी होगा कि जब साधारण कर्मचारी और महान प्रधानमंत्री को लोकपाल के दायरे में रखा जायगा तो साधन संपन्न एनजीओ और मगरमच्छ कार्पोरेट क्यों खुला करेंगे ?
ख़बरों के मुताबिक लीबिया की राजधानी त्रिपोली की रक्षा का कमान जिस फौजी के हाथों में था, उसे घूस देकर नाटो कमान ने अपनी तरफ पटा लियागद्दाफी के खिलाफ विद्रोही सेना ने जैसे ही त्रिपोली में कदम रखा उस फौजी अफसर ने हथियार दाल दिएइस पूरे कारनामे में यूरोपीय तले कंपनियों की बड़ी भूमिका बताई जाती है, जिनकी गिद्ध द्रष्टि लीबिया के तले खदानों पर लगी हैव्यापारिक लाभ के लिये आक्रमण का औपनिवेशिक इतिहास पुराना हैहम भारतवासी भी भली प्रकार जानते हैं की कलकत्ता का सबसे बड़ा व्यापारी अमीरचंद और सबसे बड़े बनकर जगत सेठ ने अपने व्यापारिक हित में कैसे अंग्रेजों की यास्त इंडिया कंपनी का साथ दिया और पलासी युद्ध में मेरे जफ़र ने कैसे अपना पाला रातोरात बदल दिया, जो भारत की गुलामी का कारण बनाव्यापारियों और बैंकरों के लिये देशभक्ति के सामने मुनाफा ज्यादा प्रिय होता हैआज के वैश्विक व्यवस्था में बहुराष्ट्रीय कंपनियों के स्वार्थ देश की सीमा में बंधे नहीं हैंऐसी स्तिथि में अन्ना के जन लोकपाल में एनजीओ और कंपनियों को विमुक्त करने का प्रावधान मासूमियत से भरा मान भी लिया जाये, तो भी अगर इसे स्वीकार किया गया और कानून की शक्ल देने के गहरे दूरगामी प्रभाव से इनकार नहीं किया जा सकता हैकम से कम इसके दुरपयोग की प्रबल संभावनाएं तो होंगी ही
विदेशों में जमा कालाधन को वापस लाने की मांग कुछ दिन पूर्व जोर पकडती नजर आईसरकार की तरफ से से कहा गया कि कला धन को राष्ट्रीय सम्पदा घोषित किया जायेगाइसे तो अभी देखना है कि सरकार क्या करती है, किन्तु इसी बीच उल्टी गंगा बहती नजर आती हैभारतीय रिजर्व बैंक के प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक 2010-11 में भारत में विदेशी निवेश घटकर 27 विलियन डॉलर हो गया जो पिछले साल के मुकाबले 70 प्रतिशत कम है, किन्तु इसी अवधि में भारत से पूँजी का बहिर्गमन 44 मिलियन डालर की ऊंचाई पर चला गया , जो पिछले साल की तुलना में 150 पतिशत ज्यादा हैइसके मायने साफ़ है की अभी कालाधन भारत में वापस आना तो दूर की बात है, भारत का सफ़ेद धन भी भारत से छूमंतर हो रहा है

सत्य नारायण ठाकुर

6 टिप्‍पणियां:

चंदन कुमार मिश्र ने कहा…

अच्छा। लोकपाल से बाहर करने की बात से ही पता चलता है कि माजरा क्या है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

ms khan ने कहा…

anna hazare sahab ko aaina dikhane ke liye dhanyabaad...

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

लोकपाल के दायरे में एनजीओ व कोर्पोरेट को लाने के मुद्दे से मैं भी सहमत हूँ यही एक मुद्दा है जो टीम अन्ना पर भरोसा करने में संशय पैदा करता है |

Mirchi Namak ने कहा…

फ़ौज का अवकाश प्राप्त मामूली ड्राईवर अन्ना हजारे आज अख़बार की सुर्ख़ियों में है
नीचे दिये हुये सभी पुरुस्कार जिसमे पद्म्भुषण और पद्म्श्री भी शामिल है प्राप्त कोई भी साधरण कैसे हो सकता है मै नही समझता की आपका व्यक्तित्व इतना महान है कि आप अण्णा हजारे के लिये गैर सम्मानजनक भाषा का प्रयोग करे आप कि विचारधारा से मै अच्छी तरह परचित हूं आप लाल रंग का चश्मा उतार कर पह्ले अण्णा जी के बारे में पढें बाकी आप कम समझदार तो है नही.....

Awards to Anna Hazare

PADMABHUSHAN AWARD
Presented by R. Venkatraman ( president of India) on 6th April 1992 at Delhi for Anna Hazare's social work.


PADMASHRI AWARD
Presented by R. Venkatraman ( President of India) on 24th march 1990 at Delhi for Anna Hazare's social work.


PRIY DARSHINI VRIKSHA MITRA AWARD, GOVT. INDIA



KRUSHI BHUSAHAN GOVT. OF MAHARASHTRA



YOUNG INDIA AWARD



MAN OF THE YEAR AWARD 1988



PAUL MITTAL NATIONAL AWARD 2000 (NEHRU SIDHANT KENDER TRUST LUDHIYNA 14001)
Presented by shri. Balaramji Das Tandon (Minister, Punjab) on 14th november 2000.


TRANSPARENCY INTERNATIONAL (IT) INTEGRITY AWARD 2003 FROM TRANSPARENCY INTERNATIONAL .



DOCTORATE DEGREE GANDHIGRAM RURAL INSTITUTE-DEEMED UNIVERSITY GANDHIGRAM DINDIGUL, TAMIL NADU-8-11-05



VIVEKANANDA SEVA PURASKAR 1994

Presented by Shri.Bada Bajar Kumar Sabha Pustakalay, Calcutta on 12th June 1996 for Anna Hazare's social work done for develop village as a family.


SHIROMANI AWARD 1996

presented by P.A.Sangma (Speaker of Lok sabha) on 22nd February 1997 at New Delhi for Anna Hazare’s contribution to National Development Integration, Enrichment of life and for his outstanding achievements in the choosen field of activities(social service).


MAHAVEER PURASKAR 1997

presented by Bhagwan Mahaveer Foundation , Chennai on 2th April 1997 for Anna Hazare’s excellent in sphere of social & community service.


DIWALIBEN MEHTA AWARD

presented by Shri.Panduranga Shastri Athavale on 8th January 1999 at Mumbai for Anna Hazare’s Hard, Sincere, Dedicated & Devoted social work.


CARE INTERNATIONAL AWARD 1998

presented by Care International Humanitarian on 8th May 1998 at Washington,D.C, USA for Anna Hazare demonstrating a profound commitment to improving life in developing world. Care Recognized Anna Hazare’s devotion to the ideas of sustainable development with whole hearted participation of villagers including women & youth.


GIANTS INTERNATIONAL AWARD

presented by Shri.Vilas Rao Deshmukh (Chief Minister of Maharashtra) on 17th sept. 2000 for Shri.Anna hazare's social work


BASAVSHRI PRASHASTI 2000 AWARD

Presented by Shri.Jagadguru Murugharajendra Brihan Math at S.J.M.Math, Chitradurga , Karnataka on 4th June 2000 for Anna Hazare’s relentless effort to bring in the value of based way of life in the society.


NATIONAL INTERGRATION AWARD

presented by (Dhum-Lajee)chiefminister- Himothkursh Sahithy Samskruthi Avam Jana Kalyal Parishad, UNA, Himachal Pradesh on 14th February 1999 for Anna Hazare’s Social Work.


VISHWA-VATSALYA & SANTBAL AWARD

presented at Ahamadabad for Anna Hazares universal services to mankind including his incessant fight against corruption and his inspring efforts to improve the living condition of the poor & to ri\aise the ethical levels of the society.


JANA SEVA PURASKAR

presented by Smt.Rajmathi at Sangle, Maharashtra on 28th February 1998 for Anna Hazares Social Work.


ROTARY INTERNATIONAL MANAV SEVA PURASKAR

presented by Supreme Court Judge Shri. D.P.Wadhwa at India Habital Center , Lodhi Road, New Delhi on 21st Feb 1998 for Anna Hazare’s Crusade against Corruption .

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

ye bhi ek kranti rahi, par har baar itihas gvah hai koi bhi kranti pahli baar me hi safal nahi ho jati , lokpal ke sath bhi yahi hai , isme bhi pahle ki bhanti kuchh 2 baten adhuri rah gayi hai ......